शिवराज सिंह बोले- सेना का मनोबल तोड़ रहे राहुल गांधी

सुबह सवेरे, भोपाल
भारत और चीन के बीच जारी विवाद को लेकर भाजपा-कांग्रेस आमने-सामने हैं। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने एक बार फिर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर हमला किया है। राहुल गांधी ने गंभीर आरोप लगाते हुए प्रधानमंत्री ने चीन के रुख को स्वीकार करके हमारी सेना के साथ विश्‍वासघात किया और भारत के रुख को नष्ट कर दिया। इस बयान पर भाजपा कांग्रेस के खिलाफ आक्रामक हो गई है।
मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष के बयान पर पलटवार करते हुए कहा कि राहुल गांधी देश के सैनिकों का अपमान कर रहे हैं, वो नेता कहलाने के लायक नहीं हैं। मंगलवार को शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि हमारे सैनिक बलिदान कर रहे हैं, दूसरी ओर एक राष्ट्रीय पार्टी के नेता जो अध्यक्ष भी रह चुके हैं जवानों का अपमान कर रहे हैं। राहुल गांधी जिस तरह के कमेंट कर रहे हैं, क्या वो भारत के नागरिक हैं? जब सीमा पर तनाव होता है, तो पूरा देश एक साथ होता है। शिवराज ने कहा कि राहुल गांधी इस हदतक गिर गए हैं कि उन्हें अब भी राजनीति याद आती है, हमला चीन पर करना चाहिए लेकिन वो मोदी जी पर बयान दे रहे हैं। क्या ये नेता कहलाने के लायक हैं।
इसके पहले भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा ने कांग्रेस पार्टी को घेरा और चीनी पार्टी के साथ कनेक्शन सामने रखा। नड्डा ने ट्वीट कर लिखा कि सबसे पहले कांग्रेस पार्टी ने चीनी कम्युनिस्ट पार्टी के साथ एमओयू साइन किया। फिर कांग्रेस ने चीन के सामने ज़मीन सरेंडर कर दी। और जब डोकलाम हुआ तो राहुल गांधी चीनी दूतावास में मुलाकात के लिए गए और अब जब तनाव है तो राहुल गांधी देश को बांटने की कोशिश कर रहे हैं। भाजपा अध्यक्ष ने आरोप लगाया कि राहुल गांधी सेना का मनोबल गिरा रहे हैं, क्या ये चेण का असर है?

प्रधानमंत्री ने सेना के साथ किया विश्‍वासघात: राहुल गांधी
मंगलवार को कांग्रेस कार्य समिति की बैठक में राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर आरोप लगाते हुए कहा कि चीन ने बड़ी ढिठाई से हमारे क्षेत्र पर कब्जा कर लिया। प्रधानमंत्री ने चीन के रुख को स्वीकार करके भारत के रुख को नष्ट कर दिया और हमारी सेना के साथ विश्‍वासघात किया कि कोई भारतीय क्षेत्र उनके कब्जे में नहीं है। उन्होंने कहा कि चीन को हमारी भूमि पर कब्जा करके निकल जाने की अनुमति नहीं दी जा सकती। यह सुनिश्‍चित करने के लिए सब कुछ किया जाना चाहिए कि हमारे जवानों का बलिदान व्यर्थ नहीं जाए। कांग्रेस नेता ने दावा किया चीन की इस हरकत का एक कारण हमारी विदेश नीति की पूरी तरह नाकामी है। प्रधानमंत्री ने कूटनीति के स्थापित संस्थागत ढांचे को ध्वस्त कर दिया। कभी पड़ोसियों के साथ मित्रवत रहे संबंध अब तनाव में हैं। अपने साझेदार देशों के साथ हमारा संबंध बाधित हो गया है। भारत को अमेरिका और अन्य देशों के साथ अच्छे संबंध का निर्माण करना चाहिए और साथ ही अपने पुराने मित्रों के साथ अच्छे रिश्ते बरकरार रखने चाहिए।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY