हरियाणा में 22 लाख नैनिहालों ने पी दो बूंद जिन्दगी के

चंडीगढ़।  हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने कहा कि प्रदेश में  चलाये जा रहे तीन दिवसीय पल्स पोलियो राष्ट्रीय प्रतिरक्षण अभियान के पहले दिन  5 वर्ष से कम आयुवर्ग के करीब 22 लाख बच्चों को पोलियो की खुराक पिलाई गई। इस अभियान के तहत शेष बच्चों को यह खुराक 20 व 21 जनवरी को घर-घर जाकर पिलाई जाएगी।

    स्वास्थ्य मंत्री ने बुधवार को बताया कि 19 जनवरी को शुरू किया गया यह अभियान प्रदेश के सभी जिलों में चलाया जा रहा है, जोकि 21 जनवरी तक जारी रहेगा। इसके पहले दिन अस्पतालों, सामाजिक केन्द्रों, स्वास्थ्य केन्द्रों, रेलवे स्टेशनों, गांवों तथा कालोनियों में लगाये गये बूथों पर करीब 22 लाख बच्चों को पोलिया की खुराक पिलाई गई। इसके लिए 16,988 बूथ स्थापित किये गये , जिनमें करीब 67 हजार स्वास्थ्य कर्मचारियों, आंगनवाड़ी वर्कर्स, आशा वर्कर्स तथा वालंटियर को तैनात किया गया था।
श्री विज ने बताया कि राष्ट्रीय पोलियो निगरानी परियोजना-डब्ल्यूएचओ के करीब 3300 अधिकारियों व कर्मचारियों ने स्वतंत्र रूप से इस अभियान का निरीक्षण व संचालन किया। इस अभियान के तहत 5 वर्ष तक के आयु वर्ग के प्रदेश के करीब 40 लाख बच्चों को कवर करने का लक्ष्य रखा गया है। इसके लिए 1500 मोबाइल टीमों को तैनात किया गया है ताकि प्रदेश के सभी बच्चों को आसानी से कवर किया जा सके। इस अभियान का दूसरा चरण 21 फरवरी को होगा।
स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि इस अभियान के दौरान झुग्गी-बस्तियों, विभिन्न क्षेत्रों में बने अस्थाई घरों, घुमन्तु जाति के लोगों के प्रवास स्थानों तथा निर्माण स्थलों सहित अन्य अति संवेदनशील क्षेत्रों पर विशेष ध्यान दिया गया है ताकि इन स्थानों पर रहने वाला कोई भी बच्चा पोलिया की खुराक से छूट न सके। उन्होंने कहा कि यदि इस प्रकार के अभियान में पोलियो खुराक लेने से कोई बच्चा वंचित रह जाता है तो वह अन्य बच्चों के लिए भी नुकसानदायक सिद्घ हो सकता है।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY