अल्पसंख्यक नेताओं का समर्थन हासिल करने में जुटी तृणमूल

कोलकाता। विधानसभा चुनाव के लिये जहां विपक्षी कांग्रेस व वाम मोर्चा एकजुट होकर तृणमूल का मुकाबला करना चाहते हैं वहीं सत्तारूढ तृणमूल कांग्रेस ने उनकी काट के तौर पर राज्य के अल्पसंख्यक नेताओं को अपने साथ मिलाने की कवायद शुरू कर दी है।

माकपा से निकाले जा चुके अब्दुल रज्जाक मोल्ला पहले ही मुख्यमंत्री से मिल कर चुनाव में साथ रहने का आश्वासन दे चुके हैं अब जमाते उलेमाये हिन्द के प्रमुख सिद्दिकुल्ला चौधुरी ने भी तृणमूल के साथ मिल कर चुनाव लडने का प्रस्ताव दिया है। बुधवार को सिद्दिकुल्ला ने राज्य सचिवालय नवान्न में मुख्यमंत्री ममता बनर्जी मुलाकात की। करीब डेढ घंटे तक चली इस बैठक के दौरान दोनो नेताओं के बीच विधानसभा चुनाव को लेकर चर्चा हुई। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार बैठक के दौरान दोनो नेताओं ने विधासभा चुनाव में एक दूसरे का सहयोग करने पर सहमति व्यक्त की।

इस दौरान सिद्दिकुल्ला ने पांच सीटों पर तृणणूल के समर्थन से चुनाव लडने का प्रस्ताव दिया। दूसरी तरफ ममता ने उन्हें राज्यसभा की सदस्यता दिलाने का आश्वासन दिया। हालांकि बैठक में हुई चर्चा के बारे में औपचारिक तौर पर कोई जानकारी नहीं दी गई लेकिन सूत्रों का कहना है कि सिद्दिकुल्ला ने तृणमूल सरकार के कार्यकाल में हुए कार्यों की खुल कर सराहना की तथा विधानसभा चुनाव में समर्थन का प्रस्ताव दिया। गौरतलब है कि इससे पहले गत दिसंबर में भी सिद्दिकुल्ला ने नवान्न में मुख्यमंत्री से मुलाकात की थी।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY