इच्छा

अवधेश कुमार झा

पहली बार पाँच सितारा होटल में गया। झिझकते हुए चाय का ऑर्डर दिया।

सजा-धजा वेटर एक केतली में गर्म पानी, एक केतली में दूध, एक चाय पत्ती का पाऊच और थोड़े चीनी के क्यूब देकर चला गया।

मैंने जैसे-तैसे चाय बनाकर पी ली।

वेटर आया और पूछा, “वुड यू लाईक टू हैव एनिथिंग मोर सर?”

मैंने कहा, “मटर पनीर खाने की इच्छा थी, पर बनाना नहीं आता…!”

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY