क्या आप चाहेंगे कि भोपाल का नाम भोजपाल हो जाए?

प्रश्न 1: आध्यात्मिक गुरु श्री श्री रविशंकर जी की मध्यस्थता में शिंगणापुर के शनि मंदिर में औरतों को पूजास्थल पर जाने की समस्या का समाधान निकाला गया है कि पुरुषों को भी वहीं तक जाने दिया जाएगा जहां तक महिलाएँ जाएँगी। भूमाता ब्रिगेड की मुखिया इससे खुश नहीं हैं। क्या यह सचमुच समस्या का समाधान है या मर्दों को भी पवित्र चबूतरे पर जाने में रोक लगाकर स्त्रियों के अहंकार की तुष्टि का प्रयास? विवेचना करें।

प्रश्न 2: यू.पी. के शामली जिले में स्थानीय निकायों के चुनाव में विजय का जश्न मनाने के लिए समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ता द्वारा चलाई गई बंदूक की गोली से आठ साल के बच्चे की मौत हो गई। यह हत्या गैर इरादतन है या जानबूझकर की गई है इसका निर्णय तो न्याय के मंदिर में होगा परंतु ज़िम्मेदार राजनैतिक दल के मुखिया द्वारा इसे किस रूप में लिया जाएगा? हिंदुस्तानी पॉलिटिक्स के चरित्र को ध्यान में न रखते हुए उत्तर दें।

प्रश्न 3: परमार राजा भोज के वंशजों द्वारा भोपाल का नाम बदलकर भोजपाल किए जाने के प्रस्ताव से राजधानी के मेयर सहमत हैं। पहले भी दो बार ऐसी नाकाम कोशिशें हो चुकी हैं। परंतु नगर निगम में सत्ताधारी दल का दबदबा होने से इस बार सफलता की आशा अधिक है। वैसे अलग अलग दलों द्वारा नाम बदलने के पीछे दिए जाने वाले तर्कों की कसौटी पर भोजपाल कितना खरा उतरता है? भोपाल के सामान्य निवासी का दृष्टिकोण अपनाते हुए जवाब दें।

प्रश्न 4: लोक जनशक्ति पार्टी के नेता की हत्या पर प्रतिक्रिया देते हुए चिराग पासवान ने दावा किया है कि बिहार में राष्ट्रपति शासन के अलावा कोई विकल्प नहीं बचा है क्योंकि वहां की सरकार जनता में सुरक्षा की भावना पैदा करने में नाकाम हो रही है। क्या चिराग का यह बयान गवर्नर हाउस के सामने गोहत्या के कारण अरुणाचल प्रदेश में लगाए गए प्रेसीडेंट रूल से प्रेरित है? यदि गोवध के मुद्दे पर राज्य सरकार भंग हो सकती है तो नेता के कत्ल पर क्या-क्या हो सकता है? अनुमान लगाएँ।

प्रश्न 5: मुंबई में 26/11 हमले के दोषी डेविड हेडली ने अमेरिका से स्थानीय अदालत के समक्ष वीडियो कॉन्फ़्रेंसिंग के माध्यम से दी गई गवाही में पाकिस्तान के लश्कर-ए-तैयबा और आई. एस.आई. का हाथ होने का बड़ा खुलासा किया। परंतु होगा क्या? अभी पठानकोट हमले में पाकिस्तान ने जैश-ए-मोहम्मद के मसूद अजहर के खिलाफ सबूत होने से साफ इंकार कर दिया है। हैडली के बयानों से जुटाए गए ठोस प्रमाण पड़ोसी मुल्क को सौंपने पर उनका क्या हश्र होगा? भारत-पाक शांति वार्ता की छाया में बैठकर उत्तर दें।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY