चिदंबरम के भ्रष्टाचार की जांच एसआईटी से कराने की मांग

नई दिल्ली। कांग्रेस नेतृत्व वाली संप्रग सरकार के पूर्व वित्त मंत्री पी चिदबंरम के पुत्र कार्ति चिदंबरम की देश- विदेश में मौजूद सम्पत्तियों का खुलासा होने के बाद बुधवार को अन्नाद्रमुक सांसदों ने मामले की उच्चस्तरीय और निष्पक्ष जांच कराने के साथ ही संसद के दोनों सदनों में तत्काल चर्चा कराने की मांग कीI इस दौरान लोकसभा और राज्यसभा की कार्यवाही कई बार बाधित हुई I अन्नाद्रमुक के साथ भाजपा ने भी भ्रष्टाचार के जांच के लिए केंद्र सरकार से एक विशेष जांच दल (एसआईटी) गठित करने की मांग की है I
एयरसेल-मैक्सिस घोटाले में अन्नाद्रमुक और भाजपा ने अब चिदंबरम को घेरना शुरू कर दिया है I भाजपा नेता सुब्रह्मण्यम स्वामी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक पत्र लिखकर, उन्हें बताया है कि एयरसेल-मैक्सिस डील में हुए भ्रष्टाचार की चल रही जांच को प्रभावित करने के लिए पूर्व वित्त मंत्री चिदंबरम उन अधिकारियों से संपर्क कर रहे हैं, जो उनके करीबी माने जाते हैं I इसलिए उच्चतम न्यायालय की निगरानी में चल रही जांच को जारी रखने के लिए एक विशेष जांच दल (एसआईटी ) का गठन किया जाना चाहिए I
मंगलवार को भेजे अपने पत्र में भाजपा नेता स्वामी ने प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) की प्रशंसा करने के साथ ही कहा कि ईडी की जांच में एयरसेल-मैक्सिस सौदे में काले धन का उपयोग होने और उसमें चिदंबरम एवं उनके पुत्र कार्ति के लिप्त होने की बात सामने आई हैI उन्होंने आरोप लगाया कि चिदंबरम ने भष्ट्राचार में कमाई गई ब्लैक मनी का इस्तेमाल दुनियाभर में संपत्तियों की खरीद में कियाI उनके करीबी रिश्तेदार और बीसीसीआई के पूर्व अध्यक्ष ए.सी मुथैया ने भी अपनी फार्म ए.ई. सर्विसेज के जरिये बोफोर्स घोटाले में ओतावियो क्वात्रोची के लिए भी काले धन का प्रयोग किया था।
पत्र के माध्यम से भाजपा नेता स्वामी स्वामी ने जांच दल का नेतृत्व कर रहे अतिरिक्त निदेशक अशोक तिवारी का तबादला, उनके गृह कैडर, वापस हिमाचल प्रदेश करने पर चिंता जताते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से एक विशेष जांच दल गठित करने की मांग की I उन्होंने कहा कि एयरसेल घोटाले की जांच एसआईटी से करायी जाए, जिससे चिदंबरम और केंद्र सरकार में मौजूद उनके नजदीकी अधिकारी मामले को रफादफा न करने पाएं I साथ ही घोटाले का सच भी पूरे देश की जनता के सामने आ सके I
जानकारी हो कि एयरसेल-मैक्सिस डील में हुए घोटाले की जांच के दौरान कार्ति चिदंबरम की कई देशों में संपत्तियां होने का खुलासा हुआ है I इस संपत्तियों की जानकारी कार्ति की कंपनियों में पड़े छापे के बाद सामने आई हैI संपत्तियों की खरीद में इस्तेमाल हुई ब्लैकमनी और मैक्सिस घोटाले में पूर्व वित्त मंत्री चिदंबरम और उनके पुत्र कार्ति की संदिग्ध भूमिका को देखते हुए अनन्द्रमुक सांसदों ने केंद्र सरकार से मांग की है कि उच्चतम न्यायालय की निगरानी में चल रही जांच एक विशेष जांच दल (एसआईटी) से करायी जानी चाहिए और इसके लिए सरकार को एसआईटी का गठन करना चाहिए।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY