बाल विवाह को कड़ाई से रोकने, जन सामान्य से कलेक्टर की अपील

रीवा । कलेक्टर राहुल जैन ने जिले के प्रवुद्ध नागरिकों, धर्मगुरूओं , अशासकीय संगठनों के पदाधिकारियों सहित शादी विवाह से जुड़े घटकों जैसे विवाह घर संचालकों, बैण्ड दल, प्रिंटिंग प्रस, हलवाई आदि से कहा है कि वे इस बात का विशेष ख्याल रखें कि विभिन्न आयोजनों में विवाह के साथ बाल विवाह कदापि न होने पाये । इस बात पर विशेष ध्यान देने की अपील कलेक्टर ने की है और कहा है कि यदि संभव हो तो विवाह आयोजन संबंधी कार्य लेने के पहले भावी वर- बधू का आयु संबंधी प्रमाण पत्र जरूर लें । वाल विवाह की कड़ाई से रोकथाम के लिये संचालित लाडो अभियान की दिशा में महिला सशक्तीकरण विभाग को यथा संभव मदद देने की अपील की गई है ।

कलेक्टर ने यह भी बताया है कि बाल विवाह की रोकथाम के लिये जिले में एक कन्ट्रोलरूम स्थापित किया गया है । इस कंट्रोलरूम में जिले के किसी भी स्थान पर यदि बाल विवाह होता है तो इसकी सूचना और शिकायत कंट्रोलरूम के टेलीफोन नं. 07662- 255243 में की जा सकती है । वाल विवाह को रोकने में प्रशासन के सहयोग की अपेक्षा जन सामान्य से की गई है ।

ज्ञातव्य है कि 18 वर्ष आयु से कम उम्र की बालिका एवं 21 वर्ष से कम आयु के बालक का विवाह कानूनन अपराध है , यही बाल विवाह अपराध है । वाल विवाह करना या कराना गैर कानूनी है । बाल विवाह कराने के अपराध में जेल और जुर्माने का प्रावधान है ।

इसी सिलसिले में म.प्र. के महिला एवं बाल विकास विभाग की महिला सशक्तीकरण द्वारा संचालित लाडो अभियान के अन्तर्गत पूरे प्रदेश में वाल विवाह की रोकथाम के लिये कारगर प्रयास किये जा रहे हैं । इसी संदर्भ में 9 मई को अक्षय तृतीया के अवसर पर होने वाले विवाहों के समय बाल विवाह की कड़ाई से रोकथाम हो , इसके लिये कलेक्टर ने सभी से सहयोग और सजगता की अपील की है ।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY