रमजान की रौनक के साथ ईद की तैयारीयों को लेकर, बाजार हुए गुलजार

रहानपुर । मंगलवार 7 जून से पवित्र माह रमजान का महीना आरंभ होने से बाजारो में रौनक बढ गई है। इस के चलते सहरी से अफतार तक लगने वाली खाद्य सामाग्री की ब्रिकी बढ गई है, इस को लेकर बाजार में उत्साह देखा गया है। मंगलवार को पवित्र माह रमजान का पहला रोजा होने के साथ ही 1 जुलाई को अलविदाई जुमा होगा जिस के चलते मस्जिदो में शुक्रवार की नमाज को लेकर भारी भीड होगी।

7 जून से जहां पवित्र माह रमजान का शुभारंभ हुआ है वहीं अब रमजान के चलते ईद की तैयारी को लेकर बाजार गुलजार है आगामी 6-7 जुलाई को होने वाले ईद पर्व के पहले उस की तैयारी को लेकर कच्चे कपडे के साथ रेडिमेट, क्राकरी, ईमिटेशन ‘वेलरी, सहित शू बाजार भी शबाब पर है। इस्लाम धर्म में वर्ष में एक बार रमजान माह में एक माह मुस्लिम समुदाय रोजे रखकर खुदा की इबादत करते है।

इस एक माह के रोजों के बदले खुशी मनाने के उद्देश से इर्द का पर्व मनाया जाता है। इस पर्व पर नए कपडे बनाने के साथ घरों की साज सज्जा भी बडे स्तर पर की जाती है। जिस को लेकर भी तैयारियां जोरो पर है। मीठी ईद कहलाऐ जाने वाले इस त्योहार पर पूरे रमजान माह अपनी मिठास घोलने के बाद ईद पर सिवईयों और शीरखूरमा को लेकर बाजार में मेवे और किराने की दुकाने सजने लगी है जहंा खरीदारी का दौर जारी है। दिन भर रोजे के बाद अफतार के साथ बाजार में बढती रौनक देखते नही बनती है। बड़ा-बूढ़ा बच्चे सभी किसी न किसी प्रकार से ईद की तैयारी में लगे है।

ईद के इस त्योहार को ध्यान में रखकर दुकान संचालको के द्वारा दुकानो में अतिरिक्त स्टॉल लगाकर ग्राहको के लिए व्यवस्था की गई है जहां से ग्राहक अपनी अवश्यक्तानुसार चीजो की खरीदी में लगा है। बाजारों में भीड़ भाड़ के चलते यातायात में बाधा भी उत्पन्न हो रही है। जिस के लिए यातायात विभाग का कोई ध्यान नही है। यातायात के बाधित होने से लोगों को आवागमन में दिक्कतों का सामना भी करना पड़ रहा है।

इसी बीच रोजो केे चलते मस्जिदो में होने वाले खतम को लेकर मस्जिदो की विशेष रूप से साज सज्जा कर रोशनी से सजाया गया है। रोजादार मस्जिदो में विशेष नमाजो के साथ इबादत में लगे हुए है। रमजान और ईद पर्व के चलते कानून व्यवस्था और साफ सफाई को लेकर पुलिस प्रशासन और नगर निगम के द्वारा भी विशेष व्यवस्थाऐं पर जहां ध्यान दिया जा रहा है, वही अधिक ध्यान देने की जरूरत है। रोजादारो के लिए अफतार को लेकर भी बाजार सजे हुए है, वहीं सहरी के लिए विशेष रूप सेे बनने वाले नान की भी बाजार में खूब मांग देखी गई है।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY