आज नौ नौ नौ संख्या का विशेष दिन

कहा जाता है कि विशेष संख्याएं दिन तिथियां ग्रह नक्षत्र यह सब पृथ्वी में रहने वाले लोगों पर प्रभाव डालते हैं ऐसी ही यह नौ वाली संख्या का दिन आज है आज की तारीख 9 वर्ष का माह 9 वर्ष 2016 इस वर्ष की संख्या का जोड़ किया जाये 2$0$1$6=09 और इस पूरे परिपेक्ष में ‘‘9’’ तारीख ‘‘9’’ महीना वर्ष 2016 का जोड़ ‘‘9’’ और इस तरह से 9-9-9 का जोड़ 27 होता है जो 2$7=9 जो मूलांक कहलायेगा तो आज की तारीख नौ अंक क्या प्रभाव डालेगा इस पृथ्वी में रहने बाले लोगों पर।

तो सबसे पहले ‘‘9’’ के महत्व की बात की जाये तो ज्योतिषी के अनुसार यह पूर्ण अंक कहलाता है और ‘‘9’’ का स्वामी मंगल होता है जो नारंगी और लाल नजर आता है और इस मंगल को धरती पुत्र कहा जाता है और यह नौ अंक विजय का अंक भी कहलाता है इस तिथि पर पैदा होने वाले लोग पुलिस, आर्मी या साहसिक कार्यो में भाग लेकर विजय को प्राप्त करते हैं।

‘‘9’’ के अंक के महत्व की अगर और बात की जाये तो सत्ता प्रशासन के लिये मेहनत भरा समय है वही आम जनता के लिये यह अच्छा समय है। अंको तिथियों और दिनों के संदर्भ में यह बात तो सब जानते है कि इस ब्रम्हांड में नौ ग्रह विद्यमान है जो सोम, मंगल, बुद्ध गुरु शुक्र शनि रवी प्लेटो और नेप्यून के रूप में हम जानते है जो नौ की संख्या के महत्व को बताते हैं यह सारे ग्रह इसी में से एक सूर्य के चक्कर लगाते है ग्रह जो मानव जीवन पर सीधा प्रभाव डालते हैं हम सब जानते है कि करोड़ मील दूर भी सूर्यकी रोशनी और तपिस कैसी होती है वहीं चंद्रमा की शीतलता के साथ ही पृथ्वी पर समुद्रों पर आने वाले ज्वार भाटा सबको पता है।

इस अंक ज्योतीषी व ग्रहों के प्रभाव को जो सब कुछ पराविज्ञान कहलाता है जिसे विज्ञान से भी पर मानते प्राचीन समय में दिन महीने और सालों की गणना ग्रहों का प्रभाव संख्या का प्रभाव यह सब प्राचीन ऋषि मुनियों ने गहन अध्ययन कर जानकारी हासिल की है जिसे अब आधुनिक विज्ञान भी उसी गणना के अनुसार माना जाता है। तो वर्ष 2016 का यह आज का दिन जो विशेष संख्या ‘‘9’’ का है यह कितना प्रभावशाली है क्या हो सकता है क्या नहीं तो हम सब तैयार हो जाइये इस नौ अंक के स्वागत के लिये और हम सब प्रार्थना करे कि यह अंक मानव जीवन के कल्याणकारी दिन साबित हो पृथ्वी पर कुछ भी उथल पुथल न हो इसीलिये हर शुभ कार्य के पूजन के अंत में सब प्रार्थना करते हैं विश्व देवो शांती कुल देवता शांती स्थान देवता शांती ग्राह देवो शांती अन्तरिक्ष शांति पृथ्वी शांति ओम धौ: शांति रोषधय: शांति राप: शांति रेव शांति सा मा शांति रोधि शांति ओम शांति-शांति-शांति।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY