श्रावण में महाकाल की अंतिम सवारी आज, पांच स्वरूप में देंगे दर्शन

उज्जैन। उज्जैन के विश्व प्रसिद्ध भगवान महाकालेश्वर भगवान की श्रावण-भादौ माह में निकलने वाली सवारी के क्रम में श्रावण माह की अंतिम पांचवी सवारी सोमवार को शाम 4 बजे नगर भ्रमण पर निकलेगी। भगवान महाकाल पांच स्वरूप में अपने भक्तों को दर्शन देंगे। भगवान महाकाल की पालकी में चन्द्रमोलेश्वर विराजित रहेंगे और हाथी पर मनमहेश मुखरविन्द, गरूड़ रथ पर शिव तांडव प्रतिमा, नंदी रथ पर उमामहेश मुखारविन्द तथा डोल रथ पर होल्कर स्टेट का मुखारविन्द विराजित होंगे।

भगवान महाकाल की सोमवार को सवारी निकलने के पूर्व महाकालेश्वर मंदिर के सभामंडप में विधिवत भगवान चन्द्रमोलेश्वर का पूजन-अर्चन होने के पश्चात अपनी प्रजा के हाल जानने के लिए नगर भ्रमण पर निकलेंगे। मंदिर के मुख्य द्वार पर सशस्त्र पुलिस बल के जवानों के द्वारा पालकी में विराजित भगवान चन्द्रमौलेश्वर को सलामी देंगे। उसके बाद परंपरागत मार्ग से होते हुए सवारी शिप्रा तट रामघाट पर पहुंचेगी। जहां पर भगवान महाकाल का शिप्रा के जल से अभिषेक एवं पूजा-अर्चना की जावेगी। पूजन-अर्चन के बाद सवारी निर्धारित मार्गो से होते हुए पुन: महाकालेश्वर मंदिर पहुंचेगी।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY