थापली, बेटवासा, बड़ी खट्टाली पंचायतें हुईं ओडीएफ, मनाया उत्सव

अलिराजपुर। अलीराजपुर जिले के जोबट विकासखंड की थापली, बेटवासा और बड़ी खट्टाली ग्राम पंचायत ने खुले में शौच से मुक्त होने का गौरव प्राप्त किया है। इस सम्मान को उत्सव के रूप में कार्यक्रम आयोजित कर तीनों ग्राम पंचायत के ग्रामीणों, जनप्रतिनिधियों, स्कूली बच्चों, समस्त रहवासियों सहित अधिकारियों और कर्मचारियों ने पूरे उत्साह के साथ मनाया। इस सम्मान के अवसर को ग्रामीणों ने सम्मान पर्व के रूप में आयोजित किया। ढोल-ढमाकों, मादल, डीजे, रंग-बिरंगी रंगोली और फूल मालाओं से ग्राम के विभिन्न मार्गों, ग्राम प्रवेश द्वार को सजाकर उक्त आयोजन को मनाया।

बुधवार को खुले में शौच मुक्त पंचायत का सम्मान मिलने के अवसर पर ग्राम थापली में मुख्य अतिथि के रूप में कलेक्टर गणेश शंकर मिश्रा, जिला पंचायत सीईओ अनुग्रह पी. एवं एसडीएम जोबट साकेत मालवीय, जनपद पंचायत अध्यक्ष शकुन्तला डूडवे विशेष रूप से उपस्थित हुए। यहां ग्राम प्रवेश स्थल पर ग्राम सरपंच एवं अन्य ग्रामीणों ने कलेक्टर एवं एसडीएम का साफा बांधकर और तिलक लगाकर अभिनंदन किया। ग्राम सरपंच ने कलेक्टर को तीर कमान भेंट कर सम्मानित किया। यहां से बड़ी संख्या में ग्रामीणजन, स्कूली बच्चे, महिलाएं सहित अन्य पूरे उत्साह के साथ ढोल-मादल पर थिरकते,नाचते गाते हुए पूरे ग्राम में भ्रमण किया।

ग्रामीणों में इतना उत्साह था कि फूल-माला से वाहन को सजाकर उक्त वाहन पर कलेक्टर, सीईओ, ग्राम सरपंच, सचिव, जीआरएस को सम्मान स्वरूप बैठाया और ग्रामीण रैली में निकले। ओडीएफ कार्यक्रम को लेकर ग्रामीणों के उत्साह ने पूरे वातावरण को जोश से भर दिया। जगह-जगह स्कूली बालिकाओं ने रंगोली बनाई थी। ग्राम में जुलूस के रूप में निकलने के बाद जुलूस मुख्य कार्यक्रम स्थल पर सभा में परिवर्तित हुआ।

कलेक्टर गणेश शंकर मिश्रा ने कहा खुले में शौच से मुक्ति के अभियान में थापली पंचायत ने बाजी मारी है। यहां के ग्रामीणों ने अपने स्वाभिमान और सम्मान के लिए ग्राम को खुले में शौच से मुक्ति के कार्य से जोडा जो सराहनीय है और अन्य पंचायतों तथा उनके ग्रामीणों के लिए अनुकरणीय है। उन्होंने कहा खुले में शौच मुक्ति का अभियान सिर्फ शौचालय निर्माण से जुडा नहीं है, बल्कि यह मानवीय व्यवहार में परिवर्तन का एक बहुत बडा अभियान है। ग्राम थापली के निवासियों ने ग्राम को ओडीएफ का सम्मान दिलाने का जो प्रयास किया। यह सामूहिक प्रयासों का एक सकारात्मक और अनुकरिणीय प्रयास है। उन्होंने उपस्थित बच्चों से आह्वान किया कि आज के बाद कोई भी व्यक्ति खुले में शौच जाते हुए नजर आए तो सीटी, थाली बजाकर उसे रोके, क्योंकि ओडीएफ का सम्मान पाने के बाद जिम्मेदारी और अधिक बढ जाती है और सही चुनौती तो अब प्रारंभ होगी।

उन्होंने बताया कि ओडीएफ होने पर थापली पंचायत को विकास कार्यों हेतु विशेष दर्जा प्रदान किया जाता है। इस अवसर पर उन्होंने ग्राम में शत प्रतिशत टीकाकरण का आह्वान करते हुए इस कार्य को शत प्रतिशत करने वाली पंचायत को दो लाख रूपये के पुरस्कार मिलने की बात कही। एसडीएम साकेत मालवीय ने कहा छोटे प्रयासों से ग्राम थापली ओडीएफ हुई है। इस कार्य में जहां जनप्रतिनिधियों की भूमिका रही वहीं मैदानी अमले ने बेहतर समन्वय के साथ काम किया। जिला पंचायत सीईओ अनुग्रह पी. ने कहा आज के उत्सव ने हमें नवीन बदलावों की राह दिखाई है लेकिन इस प्रयास को लगातार जीवंत रखने की आवश्यकता है। इस अवसर पर ग्राम सरपंच, सचिव, जीआरएस, चौकीदार, पटेल सहित एवं अन्य ग्राम निगरानी समिति सदस्यों को भी सम्मानित किया गया।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY