नदी बचाने की मुहिम को आंदोलन का रूप दें विद्यार्थी : जग्गी वासुदेव

चंडीगढ़। रैली फॉर रिवर यात्रा के तहत चंडीगढ़ स्थित पंजाब विश्वविद्यालय में पहुंचे सदगरु जग्गी वासुदेव ने शुक्रवार को विद्यार्थियों को संबोधित करते हुए कहा कि पिछले दो दशक से भूमिगत जलस्तर में लगातार गिरावट आ रही है। पीने के पानी का संकट दिनों दिन बढ़ता जा रहा है।

सदगरु जग्गी वासुदेव ने विद्यार्थियों को नदी बचाओ अभियान से जुड़कर इसे आंदोलन का रूप देने का आहवान करते हुए कहा कि युवा वर्ग में किसी भी कौम व समाज को नई दिशा प्रदान करने की क्षमता होती है। आज जरूरत है कि युवा अपनी ऊर्जा नदियों को बचाने के लिए लगाए ताकि उनका तथा उनकी आने वाली पीढ़ियों का भविष्य सुरक्षित हो सके।

एक विद्यार्थी के सवाल का जवाब देते हुए सदगरु जग्गी वासुदेव ने कहा कि यह कोई धरना या विरोध प्रदर्शन नहीं है तथा न ही यह कोई ऐसी परीक्षा है जिसका परिणाम आज या कल में आ जाएगा। मैं भलि भांति जानता हूं कि मैंने जो अभियान आज शुरू किया है कि उसका परिणाम में आने में कई वर्ष लग सकते हैं। उन्होंने कहा कि प्रत्येक व्यक्ति पानी का इस्तेमाल करता है। इसलिए उसे इस अभियान में शामिल होना चाहिए।

अगर देशवासी जल बचाने की मुहिम में शामिल नहीं हुए तो वर्ष 2030 तक लोगों को अपनी मांग से केवल 50 प्रतिशत पानी ही मिलेगा। सदगरु जग्गी वासुदेव ने कहा कि एक समय वह था जब भारत की पहचान यहां की नदियां, समुद्र व तालाब थे लेकिन आज हालात लगातार बदल रहे हैं। उन्होंने कहा कि विद्यार्थी अगर अपने जीवन में यह प्रण लें कि उन्हें कम से कम एक पेड़ लगाकर उसका पालन पोषण करना है तथा नदियों को दूषित होने से बचाना है तो भारत पूरी तरह सुरक्षित हो सकता है।
यार्थियों को संबोधित करते हुए आजकल युवाओं में चल रहे सेल्फी के क्रेज पर भी बात की। उन्होंने विद्यार्थियों को अपनी मुहिम के साथ जुडऩे का न्यौता देते हुए कहा कि वह अधिक से अधिक नदियों की सफाई करते हुए सेल्फी विद रिवर अभियान चलाएं और एक नदी के साथ अपनी तस्वीर लेकर उसे नदी अभियान की वेबसाइट पर अपलोड करें।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY