भाजपा ने की प्रभात झा व पवैया की सुरक्षा बढ़ाने की मांग

भोपाल। भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रभात झा एवं कैबिनेट मंत्री जयभान सिंह पवैया के विरुद्ध कांग्रेस के नेताओं द्वारा अभद्र भाषा के इस्तेमाल किए जाने के मामले को पार्टी के नेताओं ने बेहद गंभीरता से लिया है। उन्होंने सोमवार को देर शाम पुलिस प्रशासन को लिखित शिकायत में आशंका जताई है कि हमारे नेताओं पर कांग्रेस के लोग कभी भी हमला करवा सकते हैं, क्योंकि इनकी भाषा इस मानसिकता को उजागर कर रही है। पार्टी ने दोनों वरिष्ठ नेताओं की सुरक्षा बढ़ाने की मांग है।

उन्होंने कहा कि एक शिकायती पत्र में भाजपा प्रदेश कार्यसमिति के सदस्यों ने इस विषय को मध्यप्रदेश शासन के मुख्य सचिव से लेकर पुलिस अधीक्षक ग्वालियर तक को सूचित किया है कि हमारे नेता प्रभात झा और जयभान सिंह पवैया को कांग्रेस के लोगों से गंभीर खतरा है, क्योंकि कांग्रेस के कुछ लोग जिस तरह की बयानबाजी का इस्तेमाल कर रहें है। वह स्पष्ट संकेत देता है कि कांग्रेस के लोगों का इरादा अच्छा नहीं है। भाजपा नेताओं ने कहा है कि यह सब गुना शिवपुरी के सांसदज्योतिरादित्य सिंधिया के इशारे पर किया जा रहा है।

उन्होंने कांग्रस के पूर्व विधायक रामबरन सिंह गुर्जर, रमेश अग्रवाल एवं प्रद्युम्न सिंह तोमर सहित अन्य कांग्रेस नेताओं के द्वारा झा एवं पवैया के विरुद्ध मानहानिकारक और आशंकित कर देने वाली बयानबाजी को गंभीरता से लेते हुए कहा है कि हमारे नेताओं के विरुद्ध टिप्पणी से हमें मानसिक आघात पहुंचा है, क्योंकि हमारे यह नेतागण का पूरा जीवन ईमानदारी और निष्ठा से भरा रहा है।

विगत छह सितम्बर को ग्वालियर के चार शहर का नाका नामक स्थान पर कांग्रेस की जो सभा हुई उसमें पूर्व विधायक रामबरन सिंह गुर्जर ने खुले मंच से कहा कि प्रभात झा और जयभान सिंह पवैया का उनके घर में घुसकर मुंह काला किया जाएगा। इस सभा में कांग्रेस के उपाध्यक्ष तुलसी सिलावट भी मौजूद थे, जिनकी सहमति इस बयान को थी। इस आशय का समाचार, समाचार पत्रों में प्रकाशित हुआ है। इसी प्रकार पूर्व विधायक रमेश अग्रवाल एवं पूर्व नेता प्रतिपक्ष नगर निगम ग्वालियर देवेन्द्र सिंह तोमर आदि ने प्रेस कांफ्रेस कर हमारे नेताओं के विरुद्ध आपत्तिजनक बयानबाजी की है। इससे हमारे नेताओं की छवि पर विपरीत प्रभाव पड़ रहा है और गंभीर मानसिक कष्ट से वे गुजर रहे हैं। कांग्रेस नेताओं के इस आक्रमक और अशोभनीय व्यवहार को देखते हुए झा और पवैया की सुरक्षा बढ़ाई जाए। यदि उनके जीवन को कोई खतरा हुआ तो उसकी जिम्मेदारी कांग्रेस नेताओं की होगी।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY