श्रीबाबू की जयंती पर कांग्रेस, लालू ने एकजुट होकर भाजपा पर बोला हमला

पटना। बिहार के प्रथम मुख्यमंत्री श्रीकृष्ण सिंह की जयंती के अवसर पर राजद प्रमुख लालू प्रसाद और कांग्रेस ने एकजुटता प्रदर्शित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनकी पार्टी भाजपा पर हमला बोला। पटना के सम्राट अशोक कंवेंशन सेंटर स्थित बापू सभागार में श्रीकृष्ण सिंह की 130वीं जयंती के अवसर पर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री अखिलेश प्रसाद सिंह द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम में राजद प्रमुख लालू प्रसाद ने मुख्य अतिथि के तौर पर भाग लिया।

सम्राट अशोक कंवेंशन सेंटर के कुछ ही दूरी पर भाजपा और उसके घटक दलों द्वारा श्रीकृष्ण सिंह की जयंती के अवसर पर एक अन्य कार्यक्रम का आयो​जन किया गया जिसमें उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी, पूर्व मुख्यमंत्री एवं हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा सेक्युलर के प्रमुख जीतन राम मांझी सहित राजग के कई अन्य नेता तथा मेघालय के राज्यपाल गंगा प्रसाद और पूर्व मंत्री रामचंद्र प्रसाद सिंह ने भाग लिया। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने श्रीकृष्ण सिंह की जयंती को लेकर आयोजित इन राजनीतिक कार्यक्रमों से दूरी बरती और सचिवालय परिसर में राज्यपाल सत्य पाल मलिक एवं बिहार विधानसभा अध्यक्ष विजय कुमार चौधरी के साथ श्रीबाबू की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर उन्हें श्रद्धा सुमन अर्पित किया। लालू ने कार्यक्रम के दौरान जहां कांग्रेस के साथ पूरी तरह होने की बात की वहीं कांग्रेस ने नेताओं ने लालू की प्रशंसा की। समारोह को संबोधित करते हुए लालू ने कहा कि हम लोग पूरी तरह साथ हैं।

कांग्रेस ऑल इंडिया पार्टी है। लालू ने मंच पर मौजूद कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शकील अहमद, कार्यक्रम के संयोजक अखिलेश प्रसाद और पार्टी के वरिष्ठ नेता प्रेमचंद मिश्र की ओर मुखातिब होकर कहा कि यह दुर्भाग्य की बात है कि जैसे ही किसी को कांग्रेस का प्रदेश अध्यक्ष बनाया जाता है उसी दिन से उसे हटाने का अभियान छिड़ जाता है। इसको खत्म करिए। संगठन और पार्टी को मजबूत करिए। उल्लेखनीय है कि महागठबंधन से नाता तोड़ नीतीश कुमार के बिहार में नयी सरकार बनाने के बाद कांग्रेस विधायकों के एक गुट के जदयू में शामिल होने की चर्चाओं के बीच पार्टी आलाकमान ने हाल में पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष अशोक चौधरी को हटाकर काकब कादरी को पार्टी प्रदेश इकाई का कार्यकारी अध्यक्ष नियुक्त किया है। महागठबंधन सरकार में अशोक चौधरी बिहार के शिक्षा मंत्री थे।

उन्होंने नोटबंदी और जीएसटी की चर्चा करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर प्रहार किया और आरोप लगाया कि इससे लोगों की परेशानियां बढ़ गयीं। होटल के बदले भूखंड सहित अन्य मामले में अपने एवं अपने परिवार के अन्य सदस्यों के खिलाफ सीबीआई, ईडी और आयकर विभाग द्वारा की गयी कार्रवाई को भाजपा के इशारों पर की गयी कार्रवाई बताते हुए लालू ने पूछा कि अमित शाह के पुत्र जय शाह को क्यों नहीं नोटिस भेजा गया? नीतीश कुमार पर कटाक्ष करते हुए उन्होंने कहा, ‘‘ये तो खत्म हो गए ‘पलटूराम’। अब संपेरा जैसे नचायेगा नाचते रहिए।’’ अगले बिहार विधानसभा चुनाव में नीतीश के सत्ता में नहीं आने का दावा करते हुए लालू ने कहा कि अगले चुनाव में भाजपा की लड़ाई सीधे तौर पर उनकी पार्टी से होगी।

समारोह को कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और केरल के पूर्व राज्यपाल निखिल कुमार, लोकसभा की पूर्व अध्यक्ष मीरा कुमार और पार्टी के वरिष्ठ नेता शकील अहमद और कार्यक्रम संयोजक अखिलेश प्रसाद सिंह ने संबोधित किया। मीरा कुमार ने कहा कि लालूजी में साहस है। आडवाणी का रथ रोकना मामूली बात नहीं थी। वहीं अखिलेश ने लालू को कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्षा सोनिया गांधी और पार्टी उपाध्यक्ष राहुल गांधी का समर्थक बताया। अपने कार्यक्रम में लालू को बुलाने पर जारी चर्चाओं का जिक्र करते हुए अखिलेश ने पूछा कि कांग्रेस के कार्यक्रम में क्या भाजपा, आरएसएस या नीतीश कुमार को बुलाया जाये?

श्रीकृष्ण मेमोरियल हॉल में श्रीबाबू की जयंती के अवसर पर आयोजित राजग के कार्यक्रम को संबोधित करते हुए भाजपा के वरिष्ठ नेता सुशील कुमार मोदी ने कांग्रेस और राजद पर श्रीबाबू के सपने की हत्या करने का आरोप लगाया और कहा कि इन दोनों दलों के शासनकाल में बरौनी रिफाइनरी बंद हुआ जबकि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार ने न केवल उसका जीर्णोद्धार किया बल्कि इसके विस्तार के लिए भी कदम उठाये हैं।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY