अमेरिका गये शिवराज ने चीन और पाक को चेतावनी दी

वाशिंगटन। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने पाकिस्तान और चीन पर जोरदार हमला बोलते हुए आज कहा कि आज भारत वैसा नहीं है, जैसा वह वर्ष 1962 में था। साथ ही उन्होंने कहा कि भारत आतंकवाद के मुद्दे पर किसी को ‘‘नहीं बख्शेगा’’। चौहान अमेरिका की करीब एक सप्ताह की यात्रा पर रविवार सुबह यहां पहुंचे हैं। उन्होंने कहा कि भारत अब 1962 वाला देश नहीं रहा और चीन को इस बात का एहसास भी हो गया है जिसके बलों को भारतीय जवानों की दृढ़ता और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में मजबूत भारत के उदय के कारण डोकलाम में पीछे हटना पड़ा।

चौहान ने कहा, ‘‘आज का भारत 1962 का देश नहीं है।’’ वह यहां भारतीय दूतावास द्वारा आयोजित एक स्वागत समारोह में भारतीय अमेरिकी समुदाय को संबोधित कर रहे थे। चीन पर उनका बयान डोकलाम गतिरोध के दौरान तत्कालीन रक्षा मंत्री अरुण जेटली द्वारा दिए गए के बयानों की स्पष्ट रूप से याद दिलाता है। जेटली से जब चीन की इस चेतावनी के बारे में पूछा गया था कि भारतीय सेना को ‘‘इतिहास से मिले सबक’’ से सीख लेनी चाहिए, तब उन्होंने कहा था, ‘‘वर्ष 1962 में हालात अलग थे और वर्ष 2017 का भारत अलग है।’’
पाकिस्तान को अप्रत्यक्ष चेतावनी देते हुए चौहान ने कहा कि आतंकवाद पर ‘‘कोई समझौता’’ नहीं किया जाएगा। पाकिस्तान पर अपनी जमीन पर आतंकवादियों को पनाह देने के आरोप लगते रहे हैं। उन्होंने कहा, ‘‘यदि कोई (देश) आतंकवाद के मुद्दे पर हमें उकसाने की कोशिश करता है तो भारत उसे नहीं बख्शेगा।’’ साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि भारत वैश्विक शांति का सबसे बड़ा समर्थक है और दूसरों को उकसाना नहीं चाहता। उन्होंने हिंदी में सभा को संबोधित किया।
चौहान ने मौजूदा स्थिति में भारत और अमेरिका की मित्रता को ‘‘स्वर्णिम दौर’’ करार दिया। उन्होंने शीर्ष अमेरिकी नेतृत्व, खासकर अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और विदेश मंत्री रेक्स टिलरसन के भारत संबंधी हालिया बयानों का भी जिक्र किया। चौहान ने कहा कि दुनिया की दो सबसे बड़ी लोकतांत्रिक व्यवस्थाएं केवल अपने संबंध मजबूत करने के लिए ही नहीं, बल्कि वैश्विक कल्याण के लिए भी मिलकर काम रही हैं। इस सप्ताह के अंत में न्यूयार्क की यात्रा करने के अलावा मुख्यमंत्री आज दोपहर बाद यूएस कैपिटोल में पहले पंडित दीन दयान उपाध्याय फोरम में मानवतावाद पर सभा को संबोधित करेंगे।
चौहान ने कहा कि भारत लंबे समय से आतंकवाद का पीड़ित रहा है, लेकिन केवल मोदी के नेतृत्व में ही देश ने आतंकवादियों को शरण देने वालों के खिलाफ सर्जिकल स्ट्राइक की। मुख्यमंत्री ने हालिया डोकलाम घटनाक्रम का जिक्र करते हुए कहा कि भारतीय जवानों द्वारा दिखाई गई दृढ़ता और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में ‘‘मजबूत भारत’’ के उदय के कारण चीनी जवानों को अंतत: वापस जाना पड़ा। चौहान ने नीति संबंधी अन्य दो बड़े निर्णयों- विमुद्रीकरण और वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) पर कहा कि केवल मोदी जैसी क्षमता वाला प्रधानमंत्री ही इस प्रकार के साहसिक फैसले ले सकता है। उन्होंने कहा, ‘‘सामान्य प्रधानमंत्री विमुद्रीकरण का फैसला नहीं ले सकता।’’ उन्होंने कहा कि यह फैसला केवल वही ले सकता है जो कालेधन से निजात पाने और भ्रष्टाचार के खात्मे को लेकर दृढ़ हो।
चौहान ने कहा कि यह मोदी सरकार ही है, जिसने जीएसटी पर निर्णय लिया और उसे लागू किया। मोदी ने एक देश, एक कर के सपने को साकार किया। उन्होंने कहा कि देश हर क्षेत्र में आगे बढ़ रहा है। उन्होंने भारतीय अमेरिकियों को भारत के समग्र विकास में साथी भारतीयों के साथ शामिल होने के लिए प्रोत्साहित करते हुए कहा कि मोदी के प्रधानमंत्री बनने के बाद भारत के विकास में तेजी आई है, निर्णय तेजी से लिए जा रहे हैं और महंगाई कम हुई है। देश में समग्र विकास हुआ है।
अमेरिका में भारतीय राजदूत नवतेज सरना ने कहा कि चौहान भारत के ‘‘सर्वाधिक प्रगतिशील और दूरदर्शी नेताओं में से एक हैं’’। सरना ने कहा कि मुख्यमंत्री चौहान के नेतृत्व में मध्य प्रदेश भारत के ‘‘सबसे तेजी से विकास करने वाले’’ राज्यों में शामिल हो गया है।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY