औद्योगिक मांग बढ़ने से नवंबर माह में बैंक ऋण 8.8 प्रतिशत बढ़ा

मुंबई। औद्योगिक क्षेत्र की ऋण मांग में एक प्रतिशत कीइ वृद्धि की बदौलत नवंबर माह में बैंकों के गैर-खाद्य ऋण उठाव में 8.8 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई। एक साल पहले इसी माह में दर्ज की गई 4.8 प्रतिशत ऋण वृद्धि के मुकाबले इस साल की वृद्धि करीब करीब दोगुनी है। रिजर्व बैंक के आंकड़ों में यह जानकारी दी गई है। इससे सबसे उल्लेखनीय यह है कि कुल ऋण में औद्योगिक ऋण मांग में नवंबर माह के दौरान एक प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई जबकि एक साल पहले नवंबर में औद्योगिक मांग 3.4 प्रतिशत कम हुई थी। इस साल अक्तूबर माह में गैर-खाद्य ऋण 6.6 प्रतिशत बढ़ा है।

हालांकि, इस दौरान कृषि एवं सबंधित गतिविधियों के क्षेत्र में ऋण वृद्धि 8.4 प्रतिशत रही। एक साल पहले इसी माह में इस क्षेत्र में 10.3 प्रतिशत वृद्धि हुई थी। कुल ऋण में व्यक्तिगत ऋण की वृद्धि 17.3 प्रतिशत रही। एक साल पहले नवंबर में इस वर्ग में 15.2 प्रतिशत की ऋण वृद्धि दर्ज की गई थी।केन्द्रीय बैंक ने कहा, ‘‘इस दौरान प्रमुख उप-क्षेत्रों जैसे कि अवसंरचना, वाहन, वाहन कलपुर्जे और परिवहन कलपुर्जे, मूल धातु और धातु उत्पाद और खनन एवं उत्खनन क्षेत्र के कर्ज में गिरावट रही।’’

इसके विपरीत कपड़ा, रसायन एवं रसरायन उत्पादों, सभी इंजीनियरिंग, खाद्य प्रसंस्करण और निर्माण क्षेत्र के कर्ज में वृद्धि दर्ज की गई।सेवा क्षेत्र के कर्ज में नवंबर माह के दौरान 14 प्रतिशत वृद्धि दर्ज की गई जबकि एक साल पहले इस क्षेत्र में इसमें 7.1 प्रतिशत वृद्धि हुई थी।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY