पहली बार महिला होंगी दिल्ली संस्कृत अकादमी की प्रमुख

नयी दिल्ली। दिल्ली सरकार ने संस्कृत अकादमी का पुनर्गठन किया है और इसमें अधिक महिला सदस्य बनाये हैं तथा दिल्ली विश्वविद्यालय की प्रोफेसर कांता रानी भाटिया इसकी पहली महिला प्रमुख बनी हैं। अकादमी में भाषा से जुड़े विभिन्न विद्वानों, शिक्षाविदों और पेशेवरों को एक साथ लाया गया है। एक आधिकारिक बयान में कहा गया, ‘‘पहली बार अकादमी की अध्यक्षता एक महिला कांता रानी भाटिया द्वारा की जाएगी जो कि अकादमी की उपाध्यक्ष और दिल्ली विश्वविद्यालय की एक प्रोफेसर हैं।’’

इसमें कहा गया, ‘‘नयी संस्कृत अकादमी के लगभग आधी सदस्य महिला हैं। संस्कृत अकादमी भाषा में एक रुचि उत्पन्न करने के लिए काम करेगी और उसका प्रभाव व्यापक लोगों में विस्तारित करेगी।’’ उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा कि जीवित रखने के लिए हमें उसे और अधिक सुलभ और सम्बद्ध बनाने की जरूरत है।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY