पेस बने डेविस कप में सबसे सफल युगल खिलाड़ी, भारत ने की वापसी

तियानजिन। लिएंडर पेस डेविस कप इतिहास में सबसे सफल युगल खिलाड़ी बन गये है। उन्होंने यहां रोहन बोपन्ना के साथ मिलकर इस प्रतिष्ठित टूर्नामेंट न सिर्फ रिकार्ड 43वीं जीत दर्ज की बल्कि भारत को चीन के खिलाफ एशिया ओसियाना मुकाबले में वापसी भी दिलायी। एआईटीए की सख्ती के कारण 44 वर्षीय और पेस और बोपन्ना इस मुकाबले में एक साथ खेलने के लिये राजी हुए थे। इन दोनों ने करो या मरो वाले मैच में चीन के मो झिन गोंग और झी झांग की चीनी जोड़ी को तीन सेट तक चले कड़े मुकाबले में 5-7, 7-6(5), 7-6(3) से हराया।

भारत कल दोनों एकल मैच गंवाकर 0-2 से पीछे चल रहा था। रामकुमार रामनाथन और सुमित नागल दोनों को शुक्रवार को एकल मैचों में हार का सामना करना पड़ा था और भारत को उम्मीद बरकरार रखने के लिये युगल में हर हाल में जीत दर्ज करनी थी। विश्व ग्रुप प्लेआफ में जगह बनाने के लिये भारतीय युवा एकल खिलाड़ियों को अब उलट एकल के दोनों मैच जीतने होंगे। डेविस कप में पिछले कई वर्षों से भारत के नायक रहे पेस लंबे समय से इटली के निकोला पीटरांजली के साथ 42 जीत की बराबरी पर थे लेकिन आखिर में वह उन्हें पीछे छोड़ने में सफल रहे।
पेस ने 1990 में डेविस कप में जीशान अली के साथ प्रवेश किया था। अब जीशान टीम के कोच हैं। इसके बाद उन्होंने महेश भूपति के साथ सफल जोड़ी बनायी जो अब टीम के कप्तान हैं। पेस और भूपति ने नब्बे के दशक के आखिरी वर्षों में एटीपी सर्किट पर धूम मचायी थी। इस बीच उन्होंने लगातार 24 मैचों में जीत दर्ज की थी।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY