शिवसेना का मोदी और शाह पर बड़ा हमला, कहा नहीं करेंगे 2019 में गठबंधन

भाजपा अध्यक्ष अमित शाह आज शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे से मुलाकात करने के लिए मुंबई आ रहे हैं। माना जा रहा था कि इस मुलाकात से दोनों दलों के रिश्ते सामान्य होंगे लेकिन इस मुलाकात से ठीक पहले शिवसेना ने भाजपा अध्यक्ष अमित शाह और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर बोला है बड़ा हमला। पार्टी के मुखपत्र ‘सामना’ में प्रकाशित संपादकीय में कहा गया है कि ‘साम दाम दंड भेद’ भाजपा की नीति है। लेख में कहा गया है कि उपचुनावों में हार के बाद भाजपा को सहयोगी दलों की याद आखिर क्यों आई है?

लेख में कहा गया है कि भाजपा ने एक व्यापक संपर्क अभियान शुरू किया है जिसमें बताया जा रहा है कि प्रधानमंत्री मोदी वैश्विक स्तर के नेता हैं। लेकिन लोगों से मिलने के इस कार्यक्रम में सहयोगी दलों के साथ बैठक की जरूरत क्यों पड़ गयी? सामना के संपादकीय में कहा गया है कि शिवसेना 2019 का लोकसभा चुनाव अकेले लड़ेगी और पालघर संसदीय उपचुनाव लड़कर शिवसेना ने इसकी एक झलक दिखाई है। लेख में कहा गया है कि भले ही भाजपा आज जनसंपर्क अभियान चला रही है लेकिन मूल रूप से वह लोगों के साथ संपर्क खो रही है और उसे इसके कारण ढूंढने चाहिए।

शिवसेना के मुखपत्र में प्रधानमंत्री पर परोक्ष रूप से निशाना साधते हुए कहा गया है कि हमें चुनाव जीतने के लिए किसी पोस्टर ब्वॉय की जरूरत नहीं है। ‘हमें आवश्यकता के अनुसार पोस्टर पर चित्रों को बदलने की जरूरत भी नहीं है।’ लेख में कहा गया है, ‘अब पालघर चुनावों को देखें… इस चुनाव में, मोदी और शाह बीजेपी के पोस्टर से गायब हो गए और स्थानीय नेता के नाम पर वोट मांगे। और जब पार्टी जीत गयी तो मोदी मोदी के नारे लगने लगे।’

लेख में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर भी निशाना साधा गया है और राजग सरकारों के कथित घोटालों को लेकर भी सवाल उठाये गये हैं। साथ ही बढ़ती महँगाई, पेट्रोल और डीजल की कीमतों में लगातार वृद्धि से जनता को हो रही परेशानी, किसानों का आंदोलन आदि को लेकर भी मोदी सरकार पर निशाना साधा गया है।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY