पेनल्टी शूटआउट में चूकी भारतीय टीम, ऑस्ट्रेलिया बना चैम्पियन

ब्रेडा (नीदरलैंड)। भारत का हाकी चैम्पियंस ट्राफी खिताब जीतने का सपना पूरा नहीं हो सका और टीम गत चैम्पियन ऑस्ट्रेलिया से पेनल्टी शूटआउट में 1-3 से हार गयी। यह लगातार दूसरा मौका है जब चैम्पियंस ट्राफी के फाइनल में भारत को ऑस्ट्रेलिया ने हराया है। ऑस्ट्रेलिया का यह 15 वां चैम्पियंस ट्राफी खिताब है जबकि भारत एक बार भी इस खिताब को नहीं जीत सका। यह टूर्नामेंट का 37 वां और अंतिम सत्र था।

भारतीय टीम खिताब जीतने के करीब पहुंच गयी थी। चौथे क्वार्टर का खेल समाप्त होने तक दोनों टीमें 1-1 से बराबरी पर रहीं जिसके बाद मैच का फैसला पेनल्टी शूटआउट से हुआ। शूटआउट में ऑस्ट्रेलिया के गोलकीपर टायलर लोवेल तीन बचाव कर मैच के हीरो बने। उन्होंने सरदार सिंह , हरमनप्रीत सिंह और ललित उपाध्याय को गोल नहीं करने दिया। शूटआउट में भारत के लिए सिर्फ मनप्रीत सिंह ही गोल कर सके।
ऑस्‍ट्रेलिया के आरन जेलेवस्‍की और डेनियल बेल ने पेनल्टी में 2-0 की बढ़त दिलायी इसके बाद भारतीय गोलकीपर श्रीजेश ने मैथ्यू स्वान और टाम क्रैग के प्रयास को विफल कर दिया लेकिन ग्रैम एडवार्डस ने गोल कर ऑस्ट्रेलिया को 3-1 से जीत दिला दी। भारतीय टीम को इस बात से संतुष्ठ होगी कि उसने मैच के दौरान 60 मिनट तक विश्व चैम्पियन टीम को ना सिर्फ कड़ी टक्कर दी बल्कि मैच के ज्यादा हिस्से में ऑस्ट्रेलिया पर हावी रही। टीम को कई मौकों को नहीं भूना सकी जिसका उसे खामियाजा भुगतना पड़ा।
मैच की शुरूआत से ही दोनों देशों के बीच कांटे की टक्कर दिखी। भारत को शुरूआती 10 मिनट में दो पेनल्टी कार्नर मिले लेकिन टीम उसे गोल में नहीं बदल सकी। 13 मिनट में दिलप्रीत सिंह के शाट को ऑस्ट्रेलियाई रक्षापंक्ति ने रोक दिया जिसके बाद गेंद एसवी सुनील के पास गयी लेकिन वह इसे गोल में नहीं बदल सके। 18 वें मिनट में टीम को तीसरा पेनल्टी कार्नर मिला लेकिन इस बार भी टीम को निराशा हाथ लगी हरमनप्रीत के प्रयास को ऑस्ट्रेलिया के डिफेंडरों ने रोक दिया।
मैच के 24 वें मिनट में ब्लैक गोवेर्स ने पेनल्टी कार्नर को गोल में बदल कर ऑस्ट्रेलिया को 1-0 से आगे कर दिया। इसके तीन मिनट के बाद भारतीय टीम एक और पेनल्टी कार्नर को गोल में बदलने से चूक गयी। विवेक सागर ने 42 वें मिनट में मैदानी गोल कर भारत को बराबरी दिलायी।
चौथे क्वार्टर में भी किस्मत ने भारतीय खिलाड़ियों का साथ नहीं दिया । 45 वें मिनट में मनदीप के शाट को लोवेल ने रोक दिया। लावेल ने 53 वें मिनट में दिलप्रीत के प्रहार को रोक गोल नहीं होने दिया। मेजबान नीदरलैंड ने ओलंपिक चैम्पियन अर्जेंटीना को 2-0 से हराकर कांस्य पदक जीता। बेल्जियम पाकिस्तान को हराकर पांचवे स्थान पर रहा।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY