शिवराज का नया फंडा, चुनावी चंदा! बीजेपी नेता पैसा जुटाने में लगे

भोपाल। मध्य प्रदेश में इन दिनों सियासी पारा उफान पर है। बता दें कि मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बीजेपी के कार्यकर्ताओं को निर्देश दिया है कि वह हर विधानसभा क्षेत्र से 20 लाख रुपए का चंदा एकत्र करें ताकि चुनावों में इसका इस्तेमाल किया जा सके। भाजपा के इस ऐलान के बाद ही विपक्ष उन पर आक्रामक हो गया और कहा कि भाजपा खुद को विश्व की सबसे बड़ी पार्टी कहती है और चुनाव से पहले जनता का पैसा बर्बाद कर रही है।

बीजेपी के लिए फंड जुटाने की कवायद में मंत्री, विधायक से लेकर सांसद तक लगे हैं ताकि पार्टी बूथ के स्तर तक कार्यकर्ताओं को एक बार फिर से एकजुट कर सके। राजनीतिक विशेषज्ञों का मानना है कि बीजेपी इस फंड के जरिए अपना चुनावी खर्चा दिखाएगी, हालांकि यह सब जानते हैं कि एक विधानसभा चुनावों में कितना खर्चा होता है।

वहीं, कुछ विशेषज्ञों का मानना है कि जन आशीर्वाद यात्रा में उमड़ती भीड़ की वजह से समर्थक अब सुस्त पड़ गए हैं जिनको दोबारा से बूथ स्तर पर उतारने और बीजेपी के लिए माहौल को बनाए रखने के लिए चुनावी चंदा एकत्रित करने की शुरूआत की गई है। इस चुनावी अभियान के जरिए भाजपा के कार्यकर्ता प्रदेश की 230 विधानसभा सीटों से 46 करोड़ रुपए का पार्टी फंड जुटाएगी।

इस मुहिम से जरिए रुठे हुए कार्यकर्ताओं को एकजुट किया जाएगा। जो 500, 1000 और 2000 रुपए के चुनावी कूपन बेचकर 46 करोड़ रुपए एकत्रित करेंगे। राजनीतिक गलियारों से उठ रही खबरों के मुताबिक देश की सबसे बड़ी पार्टी बीजेपी चुनावों में ऐसा दिखाने का प्रयास कर रही है कि वह सबसे गरीब पार्टी है मगर हाल ही में दाखिल आरटीआई में सामने आया था कि बीजेपी देश की सबसे अमीर पार्टी है।

अब सवाल उठ रहा है कि मध्य प्रदेश में पिछले तीन दशकों से राज करने वाले शिवराज के पास क्या पार्टी फंड बिल्कुल भी नहीं है जो वह चुनाव के लिए जनता से पैसे मांग रहे हैं? हालांकि विपक्ष का कहना है कि शिवराज के पास जन आशीर्वाद यात्रा करने के लिए पैसे है मगर चुनाव के लिए वह जनता पर इसका बोझ लाद रहे हैं।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY