मछली विक्रेता की बेटी मनीषा ने शूटिंग में बनाया विश्व रिकॉर्ड

भोपाल। मध्यप्रदेश शूटिंग अकादमी की खिलाड़ी मनीषा कीर ने वर्ल्ड चैपियनशिप में शूटिंग में रजक पदक हासिल किया है। मनीषा वर्ल्ड चैपियनशिप में रजक पदक हासिल करने वाली पहली भारतीय महिला खिलाड़ी बन गयी हैं। खेल एवं युवा कल्याण मंत्री श्रीमती यशोधरा राजे सिंधिया ने मनीषा को हार्दिक बधाई देते हुए उसे उज्जवल भविष्य की शुभकानाएँ दी हैं। श्रीमती सिधिंया ने कहा है कि मध्यप्रदेश की बेटियाँ दुनिया जीतने का जज्बा रखती हैं।

भोपाल की 18 वर्षीय मनीषा गोरेगाँव में रहती है। आठ भाई-बहनों में से एक मनीषा पहले दिन की शुरूआत भोपाल के बड़े तालाब में मछली पकड़ने में अपने पिता की मदद करने से करती थी। पाँच बेटी और तीन बेटों वाले परिवार में पिता श्री कैलाश कीर पर इन विपरीत परिस्थितियों में बच्चों को पढ़ाना मुश्किल था। एक दिन मनीषा अपनी बहन के साथ म.प्र. शूटिंग अकादमी में चल रही टेलेंट सर्च ट्राइल्स देखने पहुँची। ओलम्पिक खिलाड़ी तथा म.प्र. शूटिंग अकादमी में प्रशिक्षक श्री मनशेर सिंह की नजर जब मनीषा पर पड़ी, तो उन्होंने मनीषा को शूटिंग करने को कहा। बिना किसी पूर्व प्रशिक्षण के मनीषा ने राइफल से टारगेट पर निशाना साधकर श्री सिंह को अचंभित कर दिया। उस दिन से मनीषा शूटिंग अकादमी में प्रशिक्षण प्राप्त कर रही है।

तीन सालों में मनीषा ने तीन नेशनल और दो इंटरनेशनल इवेंट में हिस्सा लिया। अब तक 10 पदक हासिल किये हैं। मनीषा के पिता कहते हैं कि मछली बेचकर जो आमदनी होती है, उससे बड़ी मुश्किल से परिवार का पेट भर पाता हूँ। खेल तो भूल जाओ, बच्चों को स्कूल भेजना ही मुश्किल है। वे कहते हैं शूटिंग क्या होती है, मुझे नहीं पता। बस इतना पता है कि बिटिया ने प्रदेश और देश का नाम रौशन किया है ।

मनीषा कहती है अब उसका लक्ष्य वर्ष 2020 टोक्यो ओलम्पिक में भारत को पदक दिलाना है। वह कहती है कि पिता के साथ मछली पकड़ने की तकनीक को समझा, जिसमें बहुत सब्र और तेज नज़र की जरूरत होती है। यह तकनीक मुझे शूटिंग में मददगार साबित हुई। प्रशिक्षक श्री मनशेर सिंह कहते हैं कि मनीषा की सीखने और तकनीक को प्रतिस्पर्धाओं में उपयोग करने की क्षमता अद्भुत है।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY