ज्यादती के आरोपी और उसके सहयोगी को उम्र कैद और अर्थदंड की सजा

सीहोर। विशेष न्यायाधीश नवीन कुमार शर्मा ने एक किशोरी को बहला-फुसलाकर जबरन अपने साथ ले जाकर उसके साथ ज्यादती के आरोपी और उसके सहयोगी को उम्र कैद और अर्थदंड की सजा सुनाई।
अभियोजन के अनुसार पीडि़ता के पिता ने श्यामपुर थाना में रिपोर्ट दर्ज कराई कि उसकी बेटी गांव में जनरल स्टोर से सामान लेने गई थी। लेकिन वापस नहीं लौटी। फरियादी के भतीजे नीलेश ने बताया कि आरोपी अनिल लोधी निवासी जहांगीरपुरा पीडि़त किशोरी को जबरन बहला-फुसलाकर सीहोर की तरफ ले गया। जिस पर 5 अप्रैल 2017 को श्यामपुर थाने में गुमशुदगी दर्ज की गई। मामले में जांच कर रही पुलिस ने बैरागढ़ थानांतर्गत गांव बेटा स्थित एक मकान से आरोपी अनिल लोधी के कब्जे से बरामद किया। पूछताछ में पीडि़ता ने बताया किया आरोपी पिछले तीन-चार साल से उसे बहला-फुसला रहा था। आरोपी अनिल ने उसे एक मोबाइल भी लाकर दिया था। आरोपी ने पीडि़ता से कहा कि मेरे साथ चलो, नहीं तो मैं तुझे बदनाम कर दूंगा। इसके बाद आरोपी उसे जबरन बाइक पर बैठाकर खंडवा रोड ले गया। यहां उसकी बाइक खराब हो गई तो उसने गंगा सिंह लोधी को फोन लगाकर दूसरी बाइक बुलाई। यहां से आरोपी उसे श्यामपुर होते हुए बेटा गांव लेकर गया।
जहां जगदीश मेवाड़ा के मकान में कमरा ले रखा था। यहां उसने जबरन किशोरी से ज्यादती की और उससे शादी भी नहीं की। पुलिस ने विवेचना पूरी कर अभियोग पत्र न्यायालय में पेश किया। जहां तथ्यों एवं साक्ष्यों की विवेचना करते हुए विशेष न्यायाधीश नवीन कुमार शर्मा ने आरोपी अनिल व उसके सहयोगी गंगा सिंह को किशोरी पर दबाव बनाने का दोषी मानते हुए 7 वर्ष के सश्रम कारावास व 2 हजार रुपए अर्थदंड और ज्यादती व पास्को एक्ट के तहत आजीवन कारावास एवं 5 हजार रुपए अर्थदंड की सजा सुनाई। इसके साथ मुख्य आरोपी को किशोरी के अपहरण का दोषी मानते हुए 5 वर्ष के सश्रम कारावास और 1 हजार रुपए अर्थदंड की भी सजा सुनाई। शासन की ओर से पैरवी जिला अभियोजन अधिकारी निर्मला सिंह चौधरी ने की।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY