U-23 जूनियर राष्ट्रीय कुश्ती चैम्पियनशिप में हरियाणा की लड़कियों का बोलबाला

चितौड़गढ़। टाटा मोटर्स अंडर-23 राष्ट्रीय कुश्ती चैम्पियनशिप के दूसरे दिन शनिवार को हरियाणा की पहलवानों का बोलबाला रहा। इस दिन हरियाणा की पहलवानों ने कुल सात स्वर्ण अपने नाम किए जबकि उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र और चंडीगढ़ की पहलवानों को एक-एक स्वर्ण मिला। गोरबाडी इंडोर स्टेडियम में खेली जा रही इस चैम्पियनशिप में पदक जीतने वाले सभी 10 खिलाड़ियों को 12 नवंबर से रोमानिया में शुरू हो रही अंडर-23 विश्व चैम्पियशिप का टिकट भी मिल गया।

चैम्पियनशिप के दूसरे दिन हरियाणा के पहलवानों का दबदबा देखने को मिला। इन खिलाड़ियों ने न सिर्फ दर्शकों का ध्यान खींचा बल्कि 10 में सात स्वर्ण पदक अपने नाम करते हुए 225 अंकों के साथ टीम चैम्पियनशिप पर भी कब्जा जमाया। इसके अलावा इस राज्य के पहलवानों ने एक रजत और दो कांस्य पदक अपने नाम कर अंकतालिका में पहला स्थान हासिल किया।

दूसरे स्थान पर रहने वाली उत्तर प्रदेश की टीम 158 अंकों के साथ हरियाणा से काफी पीछे है। उत्तर प्रदेश के एक हिस्से स्वर्ण पदक आया। इसके अलावा इस राज्य ने पांच रजत और एक कांस्य पदक हासिल किया। वहीं पंजाब के हिस्से एक स्वर्ण, दो रजत और तीन कांस्य पदक आए। इस प्रदर्शन के बूते पंजाब तीसरे स्थान पर रहा। हरियाणा की महिला पहलवानों का वर्चस्व शुरू से ही देखने को मिला। अंकुश ने 53 किलोग्राम भारवर्ग में दिल्ली की अंकिता को 5-3 से मात देते हुए पदक अपने नाम कर हरियाणा का खाता खोला। इसके बाद 50 किलोग्राम भारवर्ग में यूपी की दिव्या तोमर ने 5-4 के स्कोर से हरियाणा की ज्योति पर जीत हासिल की।

इसके बाद हरियाणा की पिंकी ने उत्तराखंड की अर्चना को 55 किलोग्राम भारवर्ग में 10-4 से मात दी। हरियाणा की अंजू 57 किलोग्राम भारवर्ग के सेमीफाइनल में मात खा गईं। इस भारवर्ग के फाइनल में चंडीगढ़ की नीतू ने यूपी की इंदू तोमर 10-4 से मात दी। अंजली ने 59 किलोग्राम भारवर्ग में उत्तर प्रदेश की भारती बघेल को 6-3 से हराया हरियाणा की झोली में एक और स्वर्ण पदक डाला। 63 किलोग्राम भारवर्ग में हरियाणा की पूता ने अपनी हमनाम यूपी की पूजा तोमर को फाइनल में 6-3 से पटखनी दे स्वर्ण जीता।

72 किलोग्राम भारवर्ग में हरियाणा की नैना और 76 किलोग्राम भारवर्ग में इसी प्रदेश पूजा अपनी-अपनी विपक्षी खिलाड़ियों को मात दे स्वर्ण पदक जीता। कार्यक्रम से इतर लंदन ओलम्पिक के पदकधारी पूर्व पहलवान योगेश्वर दत्त ने कहा, ‘मैं इस बात से खुश हूं कि नेशनल चैम्पियनशिप अलग-अलग जगह आयोजित की जा रही है। इससे कुश्ती को वो बदलाव मिलेगा जो इसे और चाहिए साथ ही इससे युवा खिलाड़ियों को भी मौका मिलेगा।’ चैम्पियनशिप के आखिरी दिन रविवार को पुरुषों की फ्री स्टाइल वर्ग के मुकाबले खेले जाएंगे।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY