शिवराज के साले को टिकट दिए जाने का कांग्रेस में शुरू हुआ विरोध

बालाघाट । विधानसभा चुनाव को लेकर राजनीतिक दलों में बगावत के सुर लगातार उठ रहे है। बाहरी कार्यकर्ताओं को लेकर भाजपा और कांग्रेस दोनों ही दलों में विरोध है। एक ओर जहां कांग्रेस ने पैराशूट वाले नेताओं को टिकट देने से मना किया था लेकिन दूसरी पार्टियों से आए सभी चेहरों को चुनाव में मौका दिया गया है। कुछ दिन पहले ही कांग्रेस में शामिल हुए सीएम शिवराज सिंह चौहान के साले संजय सिंह मसानी को भी पार्टी ने वारासिवनी से टिकट दिया है। जिसका विरोध शुरू हो गया है।
कांग्रेस के पूर्व विधायक प्रदीप जायसवाल के समर्थकों ने सीएम के साले संजय सिंह मसानी को टिकट दिए जाने के फैसले पर नाराजगी जताई हैं। उनका कहना है कि जिसने पार्टी को इस इलाके में जिंदा रखा उसी की अनदेखी की गई। वहीं बालाघाट से विश्वेश्वर भगत को टिकट मिलने के बाद अनुराग चतुरमोहता ने कांग्रेस की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा दे दिया है। अनुराग ने कांग्रेस पर दोहरे चरित्र की पार्टी होने का आरोप लगाते हुए कहा है कि भगत दो लोकसभा और तीन विधानसभा चुनाव हार चुके हैं। विश्वेश्वर भगत जैसे चेहरे को चुनाव में खड़ा करने का मतलब है कांग्रेस ने भाजपा प्रत्याशी के लिए जीत का मैदान खुला छोड़ दिया है।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY