78 वर्षीय लकवाग्रस्त दिव्यांग वैजयंती गुप्त ने मताधिकार का उपयोग किया

भोपाल : उज्जैन जिला मुख्यालय पर महाश्वेता नगर निवासी 78 वर्षीय वैजयन्ती गुप्त ने दिव्यांग एवं लकवाग्रस्त होने के बाद भी उज्जैन दक्षिण विधानसभा के मतदान केन्द्र क्रमांक-200 पर जाकर अपने मताधिकार का उपयोग किया। उन्हें मतदान केन्द्र पर व्हील चेयर तो मिली ही, अपितु मतदान-कर्मियों ने उनका पूरा सहयोग किया। उन्हें नियमानुसार सहायक प्रदान किया गया, जिसके माध्यम से उन्होंने सरलता से अपने मताधिकार का प्रयोग किया।

प्रशासन द्वारा बनाये गये आदर्श मतदान केन्द्र उज्जैन दक्षिण के मतदान केन्द्र क्रमांक-205 पर 80 वर्षीय श्री हुसनबी ने अपने मताधिकार का उपयोग किया। उन्हें व्हील चेयर मिली तथा सभी मतदान-कर्मियों ने मतदान कराने में पूरा सहयोग किया। मतदान के उपरान्त उनके चेहरे पर एक आत्मिक प्रसन्नता नजर आ रही थी। इसी प्रकार इसी मतदान केन्द्र पर 78 वर्षीय दिव्यांग श्री अलफ्रेड ने व्हील चेयर से जाकर अपने मताधिकार का उपयोग किया।

विधानसभा क्षेत्र क्रमांक-214 तराना के शासकीय उर्दू प्राथमिक विद्यालय में बनाए गए मतदान केन्द्र पर भी कई दिव्यांग मतदाताओं ने अपने मताधिकार का उपयोग किया। महिदपुर विधानसभा क्षेत्र के मतदान केन्द्र क्रमांक-177 पर बड़ी संख्या में दिव्यांग मतदाताओं ने अपने मताधिकार का उपयोग किया। प्रशासन द्वारा दिव्यांग मतदाताओं के लिए वाहनों की व्यवस्था की गई थी। कुछ ऑटो भी इस कार्य के लिए लगाए गए थे, जिन पर लिखा था ‘केवल दिव्यांग एवं वृद्ध मतदाताओं के लिए’। नागदा के मतदान केन्द्र क्रमांक-90 पर भी दिव्यांग मतदाताओं ने उत्साह से अपने मताधिकार का उपयोग किया। शासकीय माध्यमिक विद्यालय घट्टिया में भी दिव्यांगजनों ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया।

आदर्श दिव्यांग मतदान केन्द्र

उज्जैन दक्षिण विधानसभा क्षेत्र-217 में मनो-विकास विशेष विद्यालय एवं परिसर में आदर्श दिव्यांग मतदान केन्द्र बनाया गया था। यहां मतदान केन्द्र क्रमांक-190 से 193 तक कुल 4 मतदान केन्द्र बनाए गए थे। इन सभी में आज उत्सव जैसा माहौल था। रंगीन बैकग्राउण्ड में न केवल दिव्यांग मतदाता अपितु वहां अन्य मतदाता भी बड़े उत्साह के साथ मतदान करने के बाद सैल्फी ले रहे थे। यहां एक कोने में अलग से सैल्फी पाइंट बनाया गया था। एक महिला दिव्यांग मतदाता बड़े गर्व से मतदान करने के उपरान्त मतदान की स्याही लगी उंगली दिखाकर कह रही थीं ‘मैंने भी मतदान किया है’।

बनाए गए 1252 आदर्श दिव्यांग मतदान केन्द्र
जिला उज्जैन में दिव्यांग मतदाताओं की सुविधा के लिये मतदान केन्द्रों पर व्हील चेयर, रैम्प आदि की सुविधाएं उपलब्ध कराई गई। जिले में 1252 दिव्यांग मतदान केन्द्र बनाए गए। इन केन्द्रों पर बड़ी संख्या में दिव्यांग मतदाताओं ने अपने मताधिकार का उपयोग किया। जिले की विधानसभा महिदपुर में सर्वाधिक 1525 तथा सबसे कम उज्जैन दक्षिण विधानसभा में 358 दिव्यांग मतदाता हैं। जिले में सर्वाधिक महिदपुर विधानसभा में 242 मतदाता वाले केन्द्र बनाए गए और सबसे कम बड़नगर विधानसभा क्षेत्र में 171 मतदाता वाले केन्द्र बने। जिले के मतदान केन्द्रों पर जहां दिव्यांगजन हैं, की सुविधा के लिये 1319 केन्द्रों पर रैम्प का निर्माण तथा पुरूष एवं महिलाओं के लिये पृथक शौचालय की व्यवस्था की गई है। जिले में दिव्यांगजन आसानी से मतदान कर सकें, इसके लिये 100 दिव्यांग दूतों को लगाया गया। जिले के कुल 6222 दिव्यांगजन में से 4990 लोकोमोटर डिसेबल, 659 विजुअली इंपेयर, 483 स्पीच/हियरिंग डिसेबल तथा अन्य प्रकार के 124 दिव्यांग हैं।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY