बढ़ती जा रही है पीलिया रोग से पीडित मरीजों की संख्या

नरसिंहपुर। जिले में पिछले दो माह से पीलिया के रोगियों की संख्या लगातार बढ़ रही है लेकिन रोग की रोकथाम एवं उन्हें अस्पतालों में बेहतर उपचार देने कोई व्यवस्था नहीं हो रही है। जिससे कई मरीज सरकारी अस्पतालों में जाने के बाद निजी अस्पतालों की तरफ भागते है। वहीं मरीजों की जांच के नाम पर जिले में पैथालॉजी सेंटरों पर भी मनमाना शुल्क वसूल किया जा रहा है। नगर सहित जिले के अनेक स्थानों के पीलिया रोग से पीडित मरीज जबलपुर, नागपुर में इलाज करा रहे हैं या फिर वहां से ठीक होकर आ चुके हैं। वहीं पिछले चार दिनों से ग्राम महमदपुर के करीब दो दर्जन से अधिक लोग पीलिया से पीड़ित होकर जिला अस्पताल में लगातार पहुंच रहे हैं। साथ ही कुछ मरीज निजी अस्पतालों में इलाज करा रहे हैं तो कुछ जबलपुर व नागपुर इलाज कराने के लिए नागपुर रवाना हो गए हैं। जिला मुख्यालय से करीब 12 किमी दूर ग्राम महमदपुर में पीलिया ने कई ग्रामीणों को जकड़ रखा है। जिससे कई मरीज तो जिला अस्पताल आ रहे है लेकिन अधिकांश गांव में रहकर ही झाड़फूंक के जरिए रोग से राहत पाने की कवायद में लगे है। पिछले तीन तीनों से ग्राम महमदपुर से विनोद पिता रमेश पटैल, 23, दुष्यंत पिता अशोक परिहार 38, राधेश्याम पिता टीकाराम पटैल 60, सुनील पिता मोहन मालवीय 26, डोरीलाल पिता दम्मू पटैल 39, भोपत पिता रेवासिंह 29, राज पिता कल्याण ठाकुर 14, ज्योति पति राधेश्याम लोधी 48, शिवांगी नेमा 23, विनीता मेहरा 30 ,सोमनाथ सिह पिता सरदार ठाकुर 45, भूपत सिंह पिता प्रेमलाल 35,प्रेमवती पति शंकरलाल साहू 70 वर्ष, महेश पिता डब्बूलाल 60 ,, प्रेमवती पिता शंकर साहू 70, महेश पिता डब्बूललाल मालवीय 60, डब्बूलाल, विनीता ठाकुर, अमीता पटेल, रामजी ठाकुर, बडडु ठाकुर आदि मरीज जिला अस्पताल में भर्ती हुए। ग्राम के रामजी पटेल व दुष्यंत ने बताया कि गांव में और भी कई ग्रामीणों को पीलिया रोग है । अनेक ग्रामीणों ने बताया कि गांव के करीब तालाब होने से इसका दूषित पानी हेण्डपंपों में आ रहा है और पीलिया रोग की मुख्य वजह दूषित पानी हो सकता है। ग्रामीणों ने जिला प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग से मांग भी है कि गांव में बीमारी की रोकथाम करने कार्रवाई की जाए। दूसरी ओर जिला अस्पताल में पीलिया से पीड़ित होने के कारण करकबेल के नीरज सिंह 29, नरसिंहपुर के गोविंद पटैल 35, गोटेगांव निवासी विवेक सोनी 24, ग्राम काशीखैरी निवासी आरती मेहरा 17, हर्रई निवासी आशा डेहरिया आदि मरीज भी कई दिनों से भर्ती है। अस्पताल में पीलिया के बढ़ रहे मरीजों से वार्डो में भर्ती अन्य मरीजों के लिए भी संक्रमण का खतरा बना हुआ है।
दूषित पानी हो सकता है कारण
इस संबंध में सिविल सर्जन जिला अस्पताल नरसिंहपुर डॉ. विजय मिश्रा का कहना है कि महमदपुर से अनेक मरीज भर्ती हुए है, उन्हें वॉटल लगवाई गई है और हालत ठीक है। हो सकता है कि बीमारी की वजह दूषित पानी हो।
एंबुलेंसों से लाया गया
रविवार, सोमवार के बाद मंगलवार को भी ग्राम महमदपुर के पीलिया रोग से पीडित लोगों को 108 एंबुलेंसों से जिला अस्पताल लाया गया। जिसमें ईएमटी हेमंत प्रजापति, सागर भंडारी, संदीप जाटव, पायलट शेख इस्लाम, राकेश मुड़िया का सहयोग रहा।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY