टीम इंडिया को झाबुआ कृषि विज्ञान केंद्र ने दिया कड़कनाथ खाने का सुझाव

झाबुआ । सिडनी में इंडिया और आस्ट्रेलिया के बीच मौजूदा सीरीज का चौथा क्रिकेट मैच खेला जाएगा, लेकिन उसके ठीक पहले एमपी के झाबुआ स्थित कृषि विज्ञान केंद्र और कडकनाथ रिसच॔ सेंटर ने BCCI & विराट कोहली को अपना आफिसियल लेटर पोस्ट करते हुए ट्वीट किया है कि फैट ओर कोलेस्ट्राल के डर से अगर विराट कोहली ओर टीम इंडिया के कुछ खिलाडी ग्रिल्ड चिकन खाना छोड़कर वेगल डाइट पर उतर चुके है तो वे बिना डरे ” झाबुआ का कडकनाथ” चिकन खा सकते है जिसमे ना के बराबर फैट ओर कोलेस्ट्राल होता है।

अपने लेटरहैड के साथ लिखे इस आफिसियल पत्र में निदेशक डाक्टर I S Tomar ने लिखा है कि झाबुआ का कड़कनाथ में आयरन ओर ल्यूरिक एसिड पर्याप्त मात्रा मे होता है ओर फैट ओर कोलेस्ट्राल नहीं के बराबर होता है । ट्वीटर के अलावा मैन्युअल पत्र भी BCCI और विराट कोहली को भेजा गया है। अपने पत्र के समर्थन मे झाबुआ के कृषी विज्ञान केंद्र ने नेशनल मीट रिसच॔ संस्थान हैदराबाद की रिपोर्ट की प्रति भी ट्वीट की है जो आम चिकन ओर कडकनाथ चिकन मे मौजूद फैट-प्रोटीन – कोलेस्ट्राल आदि के अंतर को दर्शाती है ।

इस संबध मे ट्वीट कर चिट्ठी लिखने वाले संस्थान कृषि विज्ञान केंद्र के निदेशक डाक्टर आइ एस तोमर ने बताया कि उन्होंने कुछ मीडिया रिपोर्ट में पढा था कि विराट कोहली अपनी हेल्थ को लेकर बहुत संजीदा है और अपने पसंदीदा ग्रिल्ड चिकन को फैट और कोलेस्ट्राल के कारण छोडकर ” वेगल डाइट” अपना चुके है इसलिए देश हित मे उनके मन में विचार आया और सुझाव आफिसियली दे दिया। तोमर को उम्मीद है कि विराट कोहली ओर बीसीसीआई उनके सुझाव को देश हित मेंं माने ।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY