नंदकुमार सिंह चौहान को लेकर निमाड़ के कार्यकर्ताओं में असंतोष

खंडवा । विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी में बगावत के चलते खंडवा जिले की चार विधानसभा सीटों में से एक सीट कांग्रेस की झोली में चली गई है। अब लोकसभा चुनाव से पहले सांसद नंदकुमारसिंह चौहान को लेकर कार्यकर्ताओं में असंतोष देखने को मिल रहा है। यही विरोध लोकसभा चुनाव में भी जारी रहा तो खंडवा लोकसभा सीट भी कांग्रेस की झोली में जा सकती है।
तीन राज्यों में कांग्रेस सरकार बनने के बाद खंडवा में भी कांग्रेसी कार्यकर्ताओं में भारी उत्साह नजर आ रहा है और कांग्रेसी नेताओं की सक्रियता दिन पर दिन बढ़ती जा रही है जिसका नुकसान भाजपा को उठाना पड़ सकता है। बताया जाता है कि इंदौर रोड स्थित एक परिसर में भारतीय जनता पार्टी के नेताओं व कार्यकर्ताओं की बैठक हुई जिसमें शहर सहित आसपास के जिलों से भी बड़ी संख्या में कार्यकर्ता बाहरी प्रत्याशी व वर्तमान सांसद नंदकुमारसिंह चौहान के नेतृत्व को कटघरे में खड़ा करते दिखे। सभी ने सक्षम नेतृत्व करने वाला प्रत्याशी लोकसभा चुनाव में उतारने को लेकर चर्चा की।
सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार बैठक का एजेंडा खंडवा लोकसभा सीट पर नया चेहरा लाने को लेकर रखा गया था। बैठक में प्रमुख रूप से खंडवा, पंधाना, बड़वाहा एवं भीकनगांव सहित अर्चना चिटनिस गुट के कार्यकर्ता मौजूद थे। बैठक में विधानसभा टिकट की दावेदारी कर रहे कार्यकर्ता भी मौजूद थे जिन्हें पार्टी ने टिकट नहीं दिया।
बैठक में मौजूद भाजपा के वरिष्ठ नेताओं ने जमकर नंदकुमार सिंह चौहान के खिलाफ अपनी भड़ास निकाली। भाजपा के वरिष्ठ कार्यकर्ताओं ने नंदकुमार सिंह चैहान की कार्यशैली पर सवाल उठाते हुए कहा कि आज मध्य प्रदेश में भाजपा की सरकार निमाड़ में नंदकुमार सिंह चौहान की कार्यशैली के चलते नहीं आ पाई।
नंदकुमार सिंह चौहान की मनमानी के चलते भाजपा को निमाड़ में विधानसभा चुनाव में बहुत बड़ा नुकसान हुआ है। बैठक में वरिष्ठ कार्यकर्ताओं ने अपने-अपने वक्तव्य में अपने अपने तरीके से नंदकुमार सिंह चौहान की कार्यशैली पर सवाल उठाए। कुछ कार्यकर्ताओं ने तो यहां तक कहा कि नंदकुमार सिंह चौहान ने भाजपा की संस्कृति से इतर दलालों एवं राजनीति को व्यापार मानने वाले लोगों को पार्टी में आगे बड़ा पट्ठावाद को बड़ावा दिया है? जो भाजपा की संस्कृति से कोसों दूर रहा है।
वरिष्ठ नेताओं ने अपने भाषण में कहा कि नंदकुमार सिंह चैहान की कार्यशैली ने भाजपा संगठन सहित सत्ता व संगठन को भारी नुकसान पहुंचाया है। आज जमीनी कार्यकर्ता पार्टी से नाराज चल रहा है, जिसका नुकसान विधानसभा चुनाव में पार्टी को उठाना पड़ा, ऐसा ही रहा तो लोकसभा में भी पार्टी को निमाड़ में नुकसान हो सकता है, अगर नंदकुमार सिंह चौहान को पार्टी नें बड़ी भूमिका दी तो, आगामी चुनाव में खंडवा लोकसभा से प्रत्याशी बदले जाने की जरूरत है।
नंदकुमार को टिकट ना देकर नए चेहरे को पार्टी को टिकट देना चाहिए अन्यथा पार्टी को खंडवा एवं निमाड़ में भारी नुकसान हो सकता है। बैठक में मौजूद वरिष्ठ कार्यकर्ताओं ने ग्रामीण क्षेत्र के कार्यकर्ताओं सहित चारों विधानसभा के कार्यकर्ताओं से इस मांग को पुरजोर तरीके से उठाने की बात कही एवं जल्द ही पार्टी के वरिष्ठ नेताओं के पास खंडवा लोकसभा के सभी मंडलों के कार्यकर्ताओं को भोपाल व दिल्ली चलने की बात भी कही गई।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY