प्रदेश को शांति का टापू बनाना चाहते है कमलनाथ, कहा नशीले पदार्थ बंद हो

भोपाल : मुख्यमंत्री कमल नाथ ने प्रदेश में चल रहे मादक पदार्थों के अवैध गौरख धंधे, अवैध शराब की बिक्री, नाइट्रावेट से लेकर अफ़ीम, गाँजा, चरस सहित अन्य नशीले पदार्थों के फल फूल रहे अवैध कारोबार को रोकने के लिये तत्काल मुहिम शुरू करने के निर्देश दिए है।
मुख्यमंत्री ने आज पुलिस महानिदेशक के साथ उच्च स्तरीय चर्चा के बाद कहा कि जिन क्षेत्रों में इनकी अवैध बिक्री होने की रिपोर्ट मिले वहाँ के पुलिस अधिकारी के ख़िलाफ़ भी कार्यवाही करें।
कमल नाथ ने कहा कि मादक पदार्थों के गौरख धंधे व इसकी बिक्री से कई घर तबाह हो चुके है। कई नौजवान इसकी चपेट में आकर तबाह हो रहे है। उन्होंने कहा कि दुष्कर्म से लेकर तमाम अपराधों का कारण भी मादक पदार्थो की अवैध बिक्री एवं सेवन है।
उन्होंने कहा कि स्कूल-कॉलेज के आसपास भी इनकी बिक्री रुकवाएं, जिससे युवा नशे की लत से बचें। शिक्षा के मंदिरों को इस गौरख धंधे की चपेट से बचाएं। मादक पदार्थों का सेवन कई जघन्य अपराधो का कारण है। मुख्यमंत्री ने सख्त निर्देश दिए कि मादक पदार्थो के कारोबार से जुड़े किसी भी व्यक्ति को बख़्शा नहीं जायेगा। उन पर ऐसी कड़ी कार्रवाही हो कि वे वर्षों तक याद रखे। ऐसे लोगों प्रदेश में कोई स्थान नहीं है। ऐसे लोगों का संरक्षण करने वालों पर भी कड़ी कार्यवाही होगी।
मुख्यमंत्री ने जुएँ-सट्टों के अवैध अड्डों व उससे जुड़े लोगों एवं गुंडे-बदमाशों के ख़िलाफ़ भी मुहिम चलाकर कड़ी कार्यवाही करने के निर्देश दिए। अवैध वसूली से लेकर मकान-दुकान ख़ाली करवाने का धंधा करने वालों को भी क़तई बख़्शा नहीं जाये। इनके अवैध कारोबार को नेस्तनाबूद कर दे।
मुख्यमंत्री ने कहा कि हम प्रदेश को शांति का टापू बनाना चाहते है। प्रदेश को अपराध मुक्त बनाना चाहते है। अवैध मादक पदार्थो की बिक्री से कितना भी प्रभावशाली शख़्स जुड़ा हो, उसे बख़्शा नहीं जायेगा।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY