बैंक, डाकखाना, एलआईसी ,आयकर व उद्योगों में रही हड़ताल

गाजियाबाद । केन्द्रीय संगठनों की तीस सूत्री मांग को लेकर जिले के बैंक, डाकखाने, आयकर और उद्योगों में काम करने वाले कर्मचारियों ने मंगलवार से हड़ताल शुरू कर दी। कर्मचारी केंद्र सरकार द्वारा दी जा रहे वेतन भत्तों के स्लैब और सुविधाओं से संतुष्ट नहीं है। केंद्रीय कर्मचारी पुरानी पेंशन प्रणाली बहाल करने के साथ अस्थाई कर्मचारियों को स्थाई करने की मांग में जुटे हुए है। कर्मचारियोें की इस हड़ताल में सीआईटीयू भी शामिल है और औद्योगिक क्षेत्रों में नारेबाजी करते हुए हड़ताल रखी। सभी कर्मचारी बुधवार को भी हड़ताल पर रहेंगे।


मजूदर संघ केंद्र सरकार से पिछले एक साल से कर्मचारियों को सुरक्षा और वेतन को लेकर अपनी मांग करते आ रहे हैं जबकि केंद्र सरकार छोटे बैंकों के बड़े बैंकों में विलय के साथ पेंशन स्कीम समाप्त करने में लगी हुई है। इसे लेकर मजूदर संघों ने दोे दिवसीय हड़ताल की घोषणा कर रखी थी। यूपी बैंक एम्पालाइज यूनियन ने इसका समर्थन करते हुए हड़ताल की।


यूनियन के बैनर तले नवयुग मार्केट स्थित सिंडिकेट बैंक पर एकत्र हुए। यूनियन के सचिव आरके जैने ने इस मौके पर कहा कि केंद्र सरकार बैंकों के विलय में लगी हुई है। दूसरी ओर बैंकों का एनपीए लगातार बढ़ रहा है। कर्मचारियों पर लगातार दबाव बनाया जा रहा है। यूनियन के अध्यक्ष अमरपाल सिंह ने कहा कि नवंबर 2017 से बैंक कर्मचारियों का संशोधित वेतनमाल लागू होना है। बावजूद इसके अभी तक वेतनमान नहीं मिला। यही नहीं पुरानी पेंशन व्यवस्था लागू करने की मांग काफी दिनों से चल रही है। इस मौके पर यूनियन के उपाध्यक्ष सुखदेव सिंह, संयुक्त सचिव सुनील गोयल, कोषाध्यक्ष एनके जैन, उपस्थित थे।


मुख्य डाकघर में भी आल इंडिया पोस्टल एम्प्लाई एसोसिएशन के नेतृत्व में कर्मचारी एकत्र हुए और सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। एसोसिएशन के अध्यक्ष अशोक चौधरी ने कहा कि केंद्र सरकार ने 2003 के बाद एनपीएस नेशनल पेंशन स्कीम जो लागू की गई उसे कर्मचारी पसंद नहीं कर रहे है। कर्मचारी पुरानी पेंशन स्कीम लगाना चाह रहे है। यही नहीं ग्राम डाक सेवकों को भी स्थाई नहीं किया जा रहा है। यह मांग काफी दिनों से चली आ रही है। इस मौके पर अशोक चौधरी के अलावा जेपी यादव, नरेंद्र सिंह सेंगर उपस्थित थे।


आयकर कर्मचारी महासंघ भी हड़ाल में शामिल रही। इस दौरान सभी कर्मचारी हड़ताल पर बैठे। महासंघ के सर्किल महासचिव अजय तिवारी ने कहा कि कर्मचारियों को एनपीएस क स्थान पर ओपीएस लागू किया जाय। यही कर्मचारियों को सेवानिवृत्ति के बाद अनेक सुविधाओं में कटौती की गई है। इन्हें लागू किया जाय। विभाग में समयबद्ध पदोन्नति भी बंद कर दी गई है। इसे लागू किया जाना चाहिए।


हिंडनपार के साइट 4 क्षेत्र में सीआईटीयू ने हड़ताल में शामिल होकर केंद्र सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। यहां पर औद्योगिक क्षेत्रों में हड़ताल का असर रहा। सीटू के जेपी शुक्ला ने कहा कि केंद्र सरकार कर्मचारी और मजदूरों का शोषण करने में लगी हुई है। यह बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। इस मौके पर एक रैली भी निकाली गई। रैली में ईश्ववर त्यागी, जीएस तिवारी, ब्रिजेश सिंह, आनंद सिंह, महेश सिंह, शीला देवी और नीरू सेंगर शामिल रहीं।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY