वरिष्ठ विधायक एवं पूर्व मंत्री गोपाल भार्गव होंगे विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष

भोपाल। पूर्व मंत्री एवं सागर जिले के रहली से लगातार आठ बार विधायक चुने गए गोपाल भार्गव भारतीय जनता पार्टी विधायक दल के नेता और विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष होंगे। उनके नाम की घोषणा सोमवार को भाजपा विधायक दल की बैठक में पर्यवेक्षक के रूप में उपस्थित केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथसिंह ने की। बैठक में श्री भार्गव के नाम का प्रस्ताव पूर्व मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने रखा तथा पूर्व मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा एवं कुंवरसिंह टेकाम ने प्रस्ताव का अनुमोदन किया। बैठक में पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एवं प्रदेश प्रभारी डॉ. विनय सहस्त्रबुद्धे, प्रदेश अध्यक्ष राकेशसिंह, पूर्व मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान, राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय, लोकसभा चुनाव के लिए प्रदेश के सह प्रभारी सतीश उपाध्याय, पूर्व प्रदेश अध्यक्ष नंदकुमारसिंह चौहान, संगठन महामंत्री सुहास भगत, पार्टी पदाधिकारी एवं सभी विधायक उपस्थित थे।

हमें स्वयं को साबित करना है: राकेश सिंह
बैठक में उपस्थित विधायकों को संबोधित करते हुए प्रदेश अध्यक्ष राकेशसिंह ने कहा कि हम विधानसभा चुनाव में भाजपा को सबसे अधिक वोट देने के लिए जनता का अभिनंदन करते हैं, लेकिन आने वाले लोकसभा चुनावों में हमें स्वयं को साबित करना है। श्री सिंह ने कहा कि सवर्णों को नौकरी और शिक्षा में 10 फीसदी आरक्षण दिये जाने के केंद्र सरकार के फैसले के लिए मैं प्रधानमंत्री श्री मोदी का अभिनंदन करता हूं, जिनके नेतृत्व वाली सरकार सबका साथ-सबका विकास के लिए प्रतिबद्ध है। उन्होंने कहा कि प्रदेश की कांग्रेस सरकार मान्य परंपराओं को तोड़ रही थी। वंदे मातरम् पर रोक और प्रोटेम स्पीकर की नियुक्ति इसके उदाहरण हैं। इसी से विवश होकर हमने विधानसभा अध्यक्ष पद के लिए श्री विजय शाह को मैदान में उतारने का फैसला किया। इस चुनाव में हमारी जीत सुनिश्चित हो, ऐसा प्रयास रहेगा। श्री सिंह ने कहा कि आगामी लोकसभा चुनाव में हमें प्रदेश की सभी 29 सीटों पर जीत हासिल करना है, इसके लिए प्रयास करें।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY