सरकार के सामने 109 का तगड़ा विपक्ष है: शिवराज

भोपाल। पूर्व मंत्री एवं सागर जिले के रहली से लगातार आठ बार विधायक चुने गए गोपाल भार्गव भारतीय जनता पार्टी विधायक दल के नेता और विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष होंगे। उनके नाम की घोषणा सोमवार को भाजपा विधायक दल की बैठक में पर्यवेक्षक के रूप में उपस्थित केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथसिंह ने की। विधायकों को संबोधित करते हुए पूर्व मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने कहा विधानसभा चुनाव में कार्यकर्ताओं ने परिश्रम किया और जनता ने हमें जो समर्थन दिया, उसके लिए मैं प्रदेश की जनता और कार्यकर्ताओं को प्रणाम करता हूं। उन्होंने कहा कि ये चुनाव अजीब चुनाव थे। 2013 में जब हमें 38.5 प्रतिशत वोट मिले, तब हमें 143 सीटें हासिल हुई थीं। लेकिन 2018 में हमें 41 प्रतिशत वोट हासिल हुए, पर सीटें 109 ही मिलीं। श्री चौहान ने कहा कि यह सरकार अल्पमत की सरकार है और पता ही नहीं चलता कि सरकार चला कौन रहा है। उन्होंने कहा कि सरकार बनने के लंबे समय बाद मंत्रिमंडल घोषित किया गया, जिसमें सभी कैबिनेट मंत्री हैं। मंत्रियों ने शपथ ले ली, लेकिन विभागों की घोषणा तब हुई, जब हमने इसके लिए दबाव डाला। श्री चौहान ने कहा कि इस सरकार में दम नहीं है और हम 109 के तगड़े विपक्ष के रूप में सरकार के सामने हैं। उन्होंने कहा कि सवर्णों को आर्थिक आधार पर 10 प्रतिशत आरक्षण दिए जाने का फैसला ऐतिहासिक है, जिसके लिए मैं प्रधानमंत्री मोदी का अभिनंदन करता हूं। उन्होंने नव निर्वाचित विधायकों से क्षेत्र में सक्रिय रहने का आह्वान करते हुए कहा कि हमेशा इस स्थिति में रहें कि अपनी सीट दोबारा जीत सकें।
नए सदस्यों को प्रशिक्षित करें अनुभवी विधायक: डॉ. विनय सहस्त्रबुद्धे
उपस्थित विधायकों को संबोधित करते हुए पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एवं प्रदेश प्रभारी डॉ. विनय सहस्त्रबुद्धे ने कहा कि हमारे विधायक दल में नए और पुराने विधायकों का अच्छा मेल है। इस दल में 11 दुर्गाएं अर्थात् महिलाएं भी शामिल हैं। उन्होंने कहा कि दल के अनुभवी विधायक नए सदस्यों को प्रशिक्षित करें, वहीं नए सदस्य अपनी ऊर्जा का प्रयोग पार्टी और प्रदेश की जनता के हित में करें। डॉ. सहस्त्रबुद्धे ने कहा कि आने वाले लोकसभा चुनाव की चुनौती हमारे सामने है, लेकिन हम कार्यकर्ता आधारित दल हैं और चुनौती का सामना करने के लिए तैयार हैं।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY