कर्ज माफी हुई नहीं, अब गारंटीड इनकम का झुनझुना बजा रहे राहुल गांधी : राकेश

भोपाल, (हि.स.)। भोपाल। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को यह याद नहीं है कि उन्होंने भोपाल में ही कांग्रेस की सरकार बनने पर 10 दिनों में किसानों का कर्जा माफ करने की बात कही थी। कांग्रेस की सरकार बने हुए 45 से अधिक दिन हो गए हैं, लेकिन अभी तक प्रदेश में एक भी किसान का कर्जा माफ नहीं हुआ है। ऊपर से देश और प्रदेश के लोगों को बरगलाने के लिए राहुल अब गारंटीड इनकम की बात कर रहे हैं। यह बात शुक्रवार को पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष व सांसद श्री राकेश सिंह ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी द्वारा जम्बूरी मैदान में आयोजित कार्यक्रम के दौरान दिए गए भाषण पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कही।
राकेश सिंह ने कहा कि कांग्रेस ने विधानसभा चुनाव के दौरान तीनों राज्यों में किसानों का कर्जा माफ करने की बात कही थी, लेकिन अब तक म.प्र., छत्तीसगढ़ और राजस्थान तीनों राज्यों में किसानों का कर्ज माफ नहीं हुआ है। यही नहीं, बल्कि पंजाब और कर्नाटक में भी कांग्रेस ने किसानों के साथ ऐसा ही छल किया है। श्री सिंह ने कहा कि कर्ज माफी के नाम पर कांग्रेस की प्रदेश सरकार ने सिर्फ घोषणा की है और किसानों को लाल-पीले आवेदन फॉर्म में उलझाने का काम किया है। यही नहीं, बल्कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी अब गारंटीड इनकम की बात करके देश के लोगों को बरगला रहे हैं, जो एक और धोखाधड़ी है।
राकेश सिंह ने कांग्रेस और उसके अध्यक्ष राहुल गांधी को प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी द्वारा की गई किसान सम्मान निधि का मखौल उड़ाने पर फटकार लगाते हुए कहा कि कांग्रेस और उसके नेता अब यह दिखाने की कोशिश कर रहे हैं कि देश में उनसे बड़ा किसानों का शुभचिंतक नहीं है। जबकि वास्तविकता इसके विपरीत है। कांग्रेस ने अपने 70 सालों के शासन में किसानों को कमजोर करने, साहूकारों और सरकारों पर निर्भर करने का काम किया है। उन्होंने सवाल किया कि प्रधानमंत्री सम्मान निधि का मजाक उड़ाने वाले नेताओं और उनकी पार्टी ने कभी देश के किसानों के लिए ऐसा प्रावधान किया है? अगर वे वास्तव में किसानों के शुभचिंतक हैं, तो क्यों 70 सालों तक देश के किसानों की दुर्गति देखते रहे। अब प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी की सरकार ने किसानों को अपने पैरों पर खड़ा करने के लिए पहल की है, तो मजाक उड़ा रहे हैं।
प्रदेश अध्यक्ष सिंह ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी द्वारा मेक इन इंडिया, डिजिटल इंडिया, स्किल इंडिया जैसे कार्यक्रमों को असफल बताए जाने पर कहा कि कांग्रेस और उसके नेता इन कार्यक्रमों को असफल बताकर सच्चाई से मुंह फेर रहे हैं। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार द्वारा शुरू किए गए इन कार्यक्रमों का असर पूरे देश में महसूस किया जा रहा है। यही नहीं, बल्कि कई विदेशी नेता और व्यापारिक संगठन भी प्रधानमंत्री मोदी द्वारा शुरू किए गए इन कार्यक्रमों के महत्व और इनके असर को महसूस कर चुके हैं। यह एक सच्चाई है और कांग्रेस अगर उसे नहीं मानती, तो इन कार्यक्रमों के संबंध में सालाना आंकड़े उठा कर देख ले, सारी बात साफ हो जाएगी।
सिंह ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी द्वारा सभा के दौरान राफेल मुद्दे का जिक्र करने और प्रधानमंत्री मोदी के बारे में अपमानजनक टिप्पणी करने पर उन्हें आड़े हाथों लेते हुए कहा कि यह राहुल गांधी और कांग्रेस के अन्य नेता भी जानते हैं कि श्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार पर पिछले साढ़े चार सालों में एक भी आरोप नहीं लगा है, जबकि कांग्रेस की हर सरकार के दौरान घोटालों की भरमार रही है। इसीलिए कांग्रेस के इन नेताओं को मोदी सरकार की बेदाग छवि हजम नहीं हो रही है। वे किसी भी तरह मोदी जी की सरकार की छवि को खराब करना चाहते हैं, चाहे इसके लिए झूठ ही क्यों न बोलना पड़े। श्री सिंह ने कहा कि राफेल सौदे में कहीं कोई गड़बड़ी नहीं है, यह बात सुप्रीम कोर्ट और राफेल विमान बनाने वाली कंपनी की सीईओ भी कह चुके हैं। इसके बाद भी यदि राहुल गांधी यह मानते हैं कि उनके पास इस सौदे में हुई गड़बड़ी के कोई सबूत हैं, तो उन्होंने वह सबूत सुनवाई के दौरान माननीय सुप्रीम कोर्ट को क्यों नहीं दे रहे। श्री सिंह ने कहा कि कांग्रेस को भी पता है कि इस सौदे में कोई गड़बड़ी नहीं है, लेकिन मोदी सरकार के खिलाफ कोई मुद्दा न होने के कारण वे राफेल डील को इस तरह सीने से लगाए हुए हैं, जिस तरह एक बंदरिया अपने मृत बच्चे को भी सीने से चिपका घूमती रहती है।
सिंह ने कहा कि कांग्रेस चाहे कितना भी झूठ बोल ले, देश और प्रदेश के युवाओं, किसानों और महिलाओं को बरगलाने की कितनी भी कोशिश कर ले, लेकिन वह अपने इस प्रपंच में कामयाब नहीं होगी। उन्होंने कहा कि देश और प्रदेश के लोग कांग्रेस के इस झूठ को पहचान चुके हैं और आने वाले लोकसभा चुनाव में कांग्रेस को इसका जवाब जरूर देंगे।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY