कलाकारों ने कहा हैप्पी वैलेंटाइन्स डे!

मुंबई (एजेंसी)। ज़ी टीवी के ‘गुड्डन… तुमसे ना हो पाएगा‘ में अक्षत जिंदल की भूमिका निभा रहे निशांत सिंह मलकानी कहते हैं, ‘‘मेरे लिए वैलेंटाइन्स डे प्यार और दोस्ती का दिन है। आप यह दिन किसी के भी साथ मना सकते हैं, चाहे वो दोस्त हों, परिवार हो या कोई खास। मैं इस साल अपने करीबी दोस्तों के साथ वैलेंटाइन्स डे मनाऊंगा, जिन्होंने अपनी मौजूदगी से मेरी जिंदगी रोशन की और हमेशा मेरे साथ रहे।‘‘
ज़ी टीवी के ‘राजा बेटा‘ में पूर्वा मिश्रा का रोल निभा रहीं संभाबना मोहंती कहती हैं, ‘‘मेरी राय में वैलेंटाइन्स डे किसी भी आम दिन की तरह है। आखिर प्यार के लिए कोई एक दिन क्यों हो, जब हमें सारी जिंदगी इसकी जरूरत पड़ती है? प्यार का जश्न तो हर दिन मनाया जाना चाहिए और वो भी न सिर्फ अपने खास लोगों के साथ, बल्कि अपने आसपास मौजूद हर लोगों के साथ। जो लोग इसे मानते हैं वो इस दिन को सेलिब्रेट करें लेकिन हर दिन अपना प्यार शेयर करना ना भूले।‘‘
ज़ी टीवी के ‘मनमोहिनी‘ में मोहिनी की भूमिका निभा रहीं रेहना पंडित कहती हैं, ‘‘वैलेंटाइन्स डे पर सारा एहसास बहुत खूबसूरत हो जाता है। पूरा शहर लाल रंग ओढ़ लेता है। चारों ओर गुब्बारे और फूल नजर आते हैं। लेकिन ईमानदारी से कहूं तो यह मेरे लिए किसी आम दिन की तरह है। मैं जब चाहूं तब वैलेंटाइन्स डे सेलिब्रेट करना चाहती हूं ना कि किसी एक विशेष दिन पर। वैलेंटाइन्स डे से जुड़ी सबसे खूबसूरत याद मेरे कॉलेज के दिनों की है, जब हम चार सहेलियों ने मिलकर अपने एक फ्रेंड के घर पर यह दिन मनाया था। मुझे लगता है कि वो मेरा अब तक का सबसे शानदार वैलेंटाइन्स डे रहा था। इस साल मैं मनमोहिनी की शूटिंग में व्यस्त रहूंगी।‘‘
‘मैं भी अर्धांगिनी‘ के माधव ठाकुर उर्फ अविनाश सचदेव कहते हैं, ‘‘प्यार के लिए केवल एक दिन समर्पित रखना मेरी समझ से परे है क्योंकि यदि आप वाकई किसी से प्यार करते हैं तो उन्हें यह बताने के लिए एक दिन काफी नहीं कि वो आपके लिए क्या मायने रखते हैं। इसी वजह से मैंने कभी वैलेंटाइन्स डे नहीं मनाया और इस साल भी इसे मनाने की मेरी कोई योजना नहीं है। इस समय मैं अपने शो ‘मैं भी अर्धांगिनी’ की शूटिंग में व्यस्त हूं और इस वक्त मेरा ध्यान इसी पर है। मैं प्यार की राह पर धीरे-धीरे आगे बढ़ना चाहता हूं।’’
‘डायन‘ की जाह्नवी मोर्या ऊर्फ टीना दत्ता बताती हैं, ‘‘मेरे लिए प्यार की भावना अमर और निस्वार्थ है और इसके लिए सिर्फ एक दिन देना जायज नहीं होगा। चूंकि मैं सिंगल हूं और मेरा ध्यान सिर्फ अपने काम पर है, इसलिए इस साल मेरा काम ही मेरा वैलेंटाइन है (हंसती हैं)। लेकिन मेरा मानना है कि प्यार सिर्फ रोमांस नहीं होता। इस वैलेंटाइन्स डे पर मैं ज्यादातर समय डायन की शूटिंग में व्यस्त रहूंगी जिसके बाद मैं अपने दोस्तों के साथ डिनर करूंगी।’’
‘मैं भी अर्धांगिनी‘ की नीलांबरी ऊर्फ दीपशिखा नागपाल कहती हैं, ‘‘मैं वैलेंटाइन्स डे को नहीं मानती और इसे हमेशा सादगीपूर्ण रखा या फिर परिवार के साथ डिनर तक सीमित रखा। ‘मैं भी अर्धांगिनी’ के लिए मेरा ज्यादातर समय जयपुर में बीत रहा है, इसलिए मैं अपने बच्चों से दूर हूं और उनकी जिंदगी में रोज होने वाले रोमांच को मिस कर रही हूं। इस दिन मेरे बच्चों ने मुझे मुंबई में ही फन डेट पर ले जाने का फैसला किया है, जहां हम अपनी मनपसंद जगह पर लंच करेंगे। उनके साथ बिताया हर मिनट मेरा दिन बना देता है और मैं इस वैलेंटाइन्स डे उनके साथ कुछ अच्छा वक्त गुजारना चाहती हूं।’’

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY