विदर्भ ने लगातार दूसरी बार जीता रणजी ट्रॉफी का खिताब

नागपुर, (हि.स.)। गत चैंपियन विदर्भ ने लगातार दूसरी बार रणजी ट्रॉफी का खिताब जीत लिया है। खिताबी मुकाबले में विदर्भ ने सौराष्ट्र को 78 रन से हराकर खिताब अपने नाम किया। पांचवें दिन 206 रनों के लक्ष्य का पीछा करने उतरी सौराष्ट्र की टीम 58.4 ओवर में 127 रनों पर ही ढेर हो गई। विदर्भ की ओर से बाएं हाथ के स्पिनर आदित्य सरवटे ने दूसरी पारी में 24 ओवर में छह विकेट लिए। उसने पहली पारी में 98 रन देकर पांच विकेट चटकाए। सौराष्ट्र के स्टार बल्लेबाज चेतेश्वर पुजारा दोनों पारियों में नहीं चल सके।

विदर्भ ने पहली पारी में 312 जबकि सौराष्ट्र ने अपनी पहली पारी में 307 रन का स्कोर बनाया था। मेजबान विदर्भ से मिले 206 रनों के लक्ष्य का पीछा करने उतरी सौराष्ट्र की टीम अपनी दूसरी पारी में नियमित अंतराल पर विकेट गंवाते चली गई। चौथे दिन टीम ने 22 रन के स्कोर पर ही अपने तीन विकेट गंवा दिए। सरवटे ने तीनों विकेट अपने नाम किए। इन तीन विकेटों में हार्विक देसाई (8), स्नेल पटेल (12) और भरोसेमंद बल्लेबाज चेतेश्वर पुजारा (0) भी शामिल हैं। इसके बाद मेहमान टीम ने 34 के कुल स्कोर पर अर्पित वासवादे (5) और 55 के स्कोर पर शेल्डन जैकसन (7) का भी विकेट गंवा दिया। पांचवें दिन जीत के लिए उसे 148 रन की दरकार थी जबकि विदर्भ को अपना खिताब बचाने के लिए पांच विकेट की। ऐसे में मुकाबला रोचक होने के उम्मीद थी लेकिन सौराष्ट्र की टीम ने पांचवें दिन के पहले ही सत्र में हार मान ली और खिताब विदर्भ की झोली में डाल दिया।

उल्लेखनीय है कि विदर्भ टूर्नामेंट के इतिहास की छठी टीम है जिसने खिताब बरकरार रखा है। मुंबई, महाराष्ट्र, कर्नाटक, राजस्थान और दिल्ली ने इससे पहले लगातार दो खिताब जीते हैं। सौराष्ट्र का खिताबी जीत का सपना एक बार फिर टूट गया। वह 2012-13 और 2015-16 में भी उपविजेता रहा था। चेतेश्वर पुजारा का नाकाम रहना सौराष्ट्र को बुरी तरह खला। दूसरी ओर वसीम जाफर का बल्ला नहीं चलने के बावजूद विदर्भ ने जीत दर्ज की।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY