बरसाना में चहुंओर उड़े सतरंगी रंग, हुरियारों पर जमकर बरसीं लाठियां

मथुरा, (एजेंसी)। जिले के बरसाना के रंगीली गली में शुक्रवार देर शाम विश्व प्रसिद्ध लठामार होली खेली गई। लठामार होली में चारों ओर रंग, अबीर गुलाल का इन्द्रधनुष आकाश में चमक रहा था। श्रीराधारानी की नगरी प्रेम की होली में सराबोर दिखाई दे रही है। पुलिस एवं खुफिया एजेंसी ने चप्पे-चप्पे पर अपनी निगाह जमा रखी थी। अबीर-गुलाल की इन्द्र धनुषी छटाओं के बीच विश्व प्रसिद्ध बरसाना की अनूठी लठामार होली को देखने के लिए देश-विदेश के लाखों श्रद्धालुओं का जनसैलाब यहां उमड़ पड़ा।

बरसाने की प्रसिद्ध लठामार होली में रंग, गुलाल और अबीर के इन्द्रधनुषी बादल छाये रहे। शुक्रवार जैसे ही दोपहर बाद नंदगांव के हुरियारें बरसाना पहुंचे तो पीली पोखर और प्रियाकुण्ड पर स्नान-ध्यान और भांग ठण्डाई के उपरांत आंखों में कजरा, माथे पर चंदन और पगड़ियों की पहनावट के बाद एक-दूसरे को सजाते नंदगांव के हुरिहार मौजूद थे। लठामार का शुमार शुक्रवार साढ़े पांच बजे हुरिहारिन रंग-बिरंगे परिधानों में सजकर लंबी-लंबी लाठियां लिये नंदगांव से सिर पर ढाल बांधे आये हुरिहारों पर होली की लाठियां बरसाना प्रारंभ कर दिया। उधर चारों ओर रंग, अबीर, गुलाल का इन्द्रधनुष आकाश में चमक रहा था।

राधारानी की नगरी प्रेम की होली में सराबोर थी। पूरा बरसाना नगर राधारानी के जय-जयकारों से गुंजायमान हो उठा। बरसाने के इस अद्भुत और मनोहारी दृश्य को देख श्रद्धालुओ ने श्रीराधाकृष्ण के शास्वत प्रेम को साकार होते देखा। राधारानी मंदिर के अंदर होली के बीच रसिया गाए जा रहे थे-कान्हा बरसाने में आ जाइयो बुला गयी राधा प्यारी’’ के साथ-साथ मैरो खो गयौ बाजू बंद रसिया होरी में’’ आदि भक्ति गीत एवं लोकगीतों का गुणगान करते तथा रंग-गुलाल की वर्षा करते हुए नाचते थिरकते भाव विभोर होते आगे बढ़ रहे थे। हर जगह इन्द्रधनुषी छटा के मध्य राधारानी की जय-जयकार से माहौल होलीमय नजर आ रहा था और एक दूसरे के ऊपर रंग गुलाल डालकर रंगों से तरबतर कर रहे थे। लठामार होली से पूर्व लाडली मंदिर से हास-परिहास के बाद नंदगांव के हुरियारे इठलाते, बलखाते, कूदते, छलांग लगाते हुए रंगीली गली पहुंचे जहां सैकड़ों की संख्या में रंग बिरंगे लहगें ओढ़नी में सजी धजी खड़ी बरसाना की हुरियारिनों ने उन्हें घेर लिया और प्रेम भरी लाठियां बरसाना शुरू कर दिया। जिनसे बचने के लिए के हुरियारे ढाल के सहारे बचाव करते रहे। हिस

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY