झारखंड में पीएलएफआई के जोनल कमांडर सहित तीन नक्सली गिरफ्तार

खूंटी,(एजेंसी)।पुलिस को रविवार को एक बड़ी सफलता उस समय हाथ लग गयी, जब उसने प्रतिबंधित नक्सली संगठन पीएलएफआई के जोनल कमांडर संजय टोपनो उर्फ सउनातन उर्फ मोटा को कालामाटी जंगल से गिरफ्तार कर लिया।
सोमवार को पुलिस भवन में आयोजित प्रेसवार्ता में एसपी आलोक ने बताया कि उन्हें गुप्त सूचना मिली थी कि संजय टाटपनो अपने दस्ते के उग्रवादियों के साथ लेवी वसूलने के लिए टेबो से कालामाटी जंगल आया है। एएसपी अभियान अनुराग राग और एसडीपीओ आशीष कुमार महली के नेतृत्व में टीम का गठन कर कालामाटी जंगल में छापामारी कर संजय टोपनो और पीएलएफआई के सक्रिय सदस्य एतवा लोहरा उर्फ राजेश उर्फ दिलबर को गिरफ्तार किया गया। उनके पास से अवैध हथियार, गोली, मोबाइल और पीएलएफआई के पर्चे बरामद किये गये।
सजय की निशानदेही पर पश्चिमी सिंहभूम जिले के टेबो थाना के जराकेल गांव में दानियल बोदरा के घर छापामारी कर उसे गिरफ्तार किया गया। संजय उर्फ सनातन जरियागढ़ थाना के सिमटिमड़ा गांव का रहने वाला है, जबकि एतवा लोहरा जराकेल गांव का रहने वाला है। गिरफ्तार उग्रवादियों ने पुलिस के समक्ष कई घटनाओं में अपनी संलिप्तता स्वीकार की है।
छापामारी टीम में चक्रधरपुर(पश्चिमी सिंहभूम) के एसडीपीओ आनंद मोहन सिंह, आईजी 33 के प्रभारी झारखंड जगुआर, खूंटी के थाना प्रभारी इंस्पेक्टर जयटीप टोप्पो, कर्रा थाना प्रभारी पप्पू कुमार शर्मा, जरियागढ़ थाना प्रभारी अवधेश कुमार, बंदगांव के थाना प्रभारी सोहन लाल, एसआई मधेश्वर राय, उमाशंकर और प्रियंका कुमार और सशस्त्र बल के जवान शामिल थे।
एसपी ने बताया कि संजय टोपनो पीएलएफआइ का खूंखार व हार्डकोर उग्रवादी है। उसका पुराना आपराधिक इतिहास रहा है। उन्होंने बताया कि उसके खिलाफ कारइकेला, गुदड़ी और मुफ्फसिल थाने में कई मामले दर्ज हैं। पुलिस को लंबे समय से उसकी तलाश थी। बरामद हथियार गिरफ्तार उग्रवादियों के पास से 7.65 एमएम की एक देसी पिस्टल व 23 जिंदा कारतूस, एक .315 रायफल व चार गोलियां, नाइन एमएम की देसी कार्बाइन, पीएलएफआइ के 10 पर्चे और छह मोबाइल बरामद किये गये हैं। मौके पर एएसपी अभियान अनुराग राज, एसडीपीओ आशीष कुमार महती व अन्य पुलिस अधिकारी मौजूद थे। हिस

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY