सिख-दंगों पर ताजा बहस क्या ‘टाइम’ की उपाधि की पुष्टि है?

फिलवक्त, जबकि बजरिए मीडिया, भाजपा और उसकी सहयोगी पार्टी अकाली दल वोटों की फसल पकाने के लिए 1984 के सिख-दंगों की राख में नफरत के अंगारे तलाश रहे हैं, अमेरिका की अंतर्राष्ट्रीय पत्रिका टाइम के मुख-पृष्ठ पर ’इंडियाज डिवाइडर इन चीफ’ याने ’भारत का प्रमुख विभाजनकारी’ के अवतार में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की तस्वीर लोकसभा चुनाव की तासीर को ज्यादा तीखा और तल्ख बना रही है। लोकसभा चुनाव के अंतिम दौर में ’भारत के प्रमुख विभाजनकारी’ के रूप में मोदी का तल्ख व्यक्तित्व और उसकी मीमांसाएं भाजपा के सामने सवालों का नया पिटारा बनकर खड़ी हैं, जिनका जवाब देना मुश्किल है।
वैसे भी वर्तमान चुनाव के विमर्श में जनता से जुड़े मुद्दे लगभग नदारद हो चुके हैं। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने स्वयं चुनाव की दास्तान को दहशतगर्दों के दरवाजों पर ले जाकर खड़ा कर दिया है। 2019 के चुनाव में पैंतीस साल बाद राजीव गांधी के बहाने 1984 के सिख-दंगों का उल्लेख नफरत की चिंगारियों को हवा देने का ताजा उदाहरण है, जो राजीव गांधी की शहादत को भी दुत्कारते हुए धर्म के नाम पर वोट बटोरने की कोशिशों को बयां करता है। विवाद में राजीव गांधी की शहादत को दरकिनार करके छींटाकशी के प्रयास दुर्भाग्यपूर्ण हैं।
सिख दंगों के नाम पर राजीव गांधी को कठघरे में खड़ा करके धर्म की धुरी पर वोट बटोरने की कोशिशें टाइम मैगजीन के कथानक में ’विभाजक’ की प्रवृतियों को पुष्ट करती हैं। टाइम मैगजीन ने 20 मई के संस्करण में नरेन्द्र मोदी पर केन्द्रित कहानी को अपनी लीड-स्टोरी बनाया है। टाइम मैगजीन ने अपने कवर पर नरेन्द्र मोदी को इंडियाज डिवाइडर इन चीफ उपाधि से रेखांकित किया है। इस लीड-स्टोरी का शीर्षक है- ’केन द वर्ल्डस लार्जेस्ट डेमोक्रेसी एन्ड्योर अनॉदर फाइव इयर्स ऑफ मोदी-गवर्नमेंट? मौजूदा चुनाव के परिप्रेक्ष्य में यह सवाल बड़ा है कि क्या दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र मोदी-सरकार को पांच साल और झेल सकता है? बहरहाल, यह सवाल सिर्फ टाइम मैगजीन की कवर-स्टोरी में ही उभर कर सामने नहीं आ रहा है। भारत के बौद्धिक-समाज की चिंताओं के केन्द्र में भी यही सवाल उमड़ता-घुमड़ता रहता है। न्यायपालिका, विधायिका और कार्यपालिका की स्वतंत्रता पर कुठाराघात करने के आरोपों से मोदी मुक्त नहीं हैं। वर्तमान लोकसभा चुनाव में चुनाव आयोग की निष्पक्षता भी कठघरे में खड़ी है।
टाइम की लीड-स्टोरी लोकसभा चुनाव के परिप्रेक्ष्य में मोदी-सरकार के पिछले पांच सालों के कामकाज की समीक्षा है। इसमें भाजपा के हेट-कैम्पेन की घातक प्रवृत्तियों का लेखा-जोखा भी है। लंदन के पत्रकार आतिश तासीर ने लिखा है कि मोदी के राज में जहां सांप्रदायिक सद्भाव हाशिये पर खड़ा है, वहीं कट्टरवादी तबकों को जबररदस्त रणनीतिक संरक्षण मिल रहा है। इसमें नेहरू के समाजवाद और भारत की मौजूदा राजनीतिक परिस्थितियों का तुलनात्मक मूल्यांकन किया गया है। प्रधानमंत्री मोदी के ज्यादातर भाषणों में पंडित जवाहरलाल नेहरू टारगेट पर रहते हैं। लेख में 1984 के सिख-दंगों और 2002 के गुजरात दंगों का उल्लेख भी किया गया है। यहां टिप्पणी गौरतलब है कि ’सिख दंगों में कांग्रेस भी गुनाहगार है, लेकिन फिर भी उसने इन दंगों के दौरान उन्मादी भीड़ से खुद को अलग रखा, लेकिन नरेन्द्र मोदी 2002 के दंगों के दौरान अपनी चुप्पी से उन्मादी भीड़ के दोस्त साबित हुए।’ उनके प्रधानमंत्रित्व काल में लिंचिंग और गाय के नाम पर होने वाली हिंसा ने मुसलमानों में आतंक पैदा किया। बहरहाल, लोकतंत्र के तानेबाने को ध्वस्त करने के आरोपों के बीच टाइम के दूसरे लेख में मोदी के आर्थिक सुधारों की तारीफ है, लेकिन यह भी कहा गया है कि आर्थिक-चमत्कारों के वायदे पूरे करने में वो असफल रहे हैं।
देश में सांप्रदायिक नफरत और सियासी-तंगदिली के अफसानों के बीच कनाडा के युवा प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो का प्रसंग गौरतलब है। 2015 के उत्तरार्द्ध में जस्टिन ट्रूडो ने कैबिनेट में भारतीय मूल के तीन सिखों को मंत्री बनाया था। ’इस्लामिक-फोबिया’ से भयाक्रांत कनाडा में कट्टरपंथ के हिमायतियों को जवाब देते हुए ट्रूडो ने एक बहुलतावादी कैबिनेट का गठन किया था। जब एक पत्रकार ने उनसे सवाल किया कि आपने कैबिनेट की संरचना में नस्लीय और जातीय समानता पर इतना जोर क्यों दिया है, तो इस भारी भरकम राजनीतिक सवाल का उन्होंने संक्षिप्त जवाब दिया था-’’बिकॉज, इट इज 2015’’ ट्रूडो के इस ’वन-लाइनर’ में भारतीय राजनीति के कई सवालों के व्यापक और स्वाभाविक उत्तर छिपे हैं। देश के वर्तमान कर्णधारों को सोचना होगा कि ’समय के चीथड़ों को छोड़कर देश को आगे बढ़ना होगा… गड़े मुर्दे उखाड़ने से सुंगध नहीं, सड़ांध फैलती है। मुर्दों की मिजाजपुर्सी से समाज कभी भी दुरुस्त नहीं रहता है’। ट्रूडो के ’वन-लाइनर’ के निहितार्थों को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को भी समझना होगा।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY