डीएवीवी के कुलपति नरेन्द्र धाकड़ बर्खास्त, धारा-52 लागू

इंदौर, (एजेंसी)। इंदौर की देवी अहिल्या विश्वविद्यालय (डीएवीवी) में विभिन्न पाठ्यक्रमों में एडमिशन के लिए रविवार को आयोजित की गई सीईटी की परीक्षा विश्वविश्वद्यालय प्रबंधन को भारी पड़ गई। इस मामले में सोमवार को राज्य शासन द्वारा न केवल डीएवीवी में धारा-52 लागू कर दी गई है, बल्कि विश्वविद्यालय के कुलपति नरेन्द्र धाकड़ को भी बर्खास्त कर दिया गया है। यह कार्रवाई उच्च शिक्षा मंत्री जीतू पटवारी के निर्देश पर उच्छ शिक्षा विभाग द्वारा की गई है।

डीएवीवी में रविवार को शहर के 24 केंद्रों पर ऑनलाइन सीईटी (कॉमन एंट्रेस टेस्ट) परीक्षा का आयोजन किया गया था, लेकिन इस दौरान सर्वर डाउन होने के कारण पेपर अपलोड नहीं हो पाया, जिसके चलते करीब 1300 विद्यार्थी परीक्षा देने से वंचित रह गए। विश्वविद्यालय प्रबंधन द्वारा रविवार शाम को आपात बैठक बुलाई, जिसमें परीक्षा निरस्त करने का निर्णय लिया गया। परीक्षा निरस्त होने के कारण विद्यार्थी नाराज हो गए और विश्वविद्यालय परिसर में जमकर हंगामा किया। यह हंगामा सोमवार को भी जारी रहा। इसमें कांग्रेस कार्यकर्ताओं के साथ एनएसयूआई और एबीवीपी जैसे छात्र संगठन भी शामिल हो गए। उच्च शिक्षा मंत्री जीतू पटवारी को सोमवार को सुबह इस मामले की जानकारी लगी, तो उन्होंने अपने विभाग को आदेश देकर विश्वविद्यालय में धारा 52 लागू कर दी। वहीं, इस मामले में उच्च शिक्षा विभाग द्वारा डीएवीवी के कुलपति नरेन्द्र धाकड़ को भी बर्खास्त कर दिया है।

उच्च शिक्षा मंत्री जीतू पटवारी ने बताया कि कुलपति को बर्खास्त करने की कार्रवाई मध्यप्रदेश विश्वविद्यालय अधिनियम-1973 की धारा 52 के तहत की गई है। सोमवार को देर शाम तक डीएवीवी में प्रभारी कुलपति की नियुक्ति कर दी जाएगी। वहीं अगले छह महीने में स्थायी कुलपति को नियुक्त कर दिया जाएगा। विभाग ने मामले को गंभीरता से लिया है और भोपाल से टीम भेजकर मामले की जांच कराई जा रही है। हिस

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY