मासूम गुड़िया की हत्या पर देशभर में जबरदस्त आक्रोश

नई दिल्ली, (एजेंसी)। अलीगढ़ के टप्पल की मासूम गुड़िया के साथ हैवानों ने जो किया, उससे केवल उस क्षेत्र में ही नहीं पूरे देश में जबरदस्त गम और गुस्सा है। इस जघन्य घटना को लेकर लोग अपने-अपने तरीके से न केवल इसकी निंदा-भर्त्सना कर रहे हैं वरन इसके आरोपितों को कड़ी से कड़ी सजा देने की मांग कर रहे हैं। सामाजिक, राजनीतिक लोगों ने ही नहीं बाॅलीवुड की हस्तियों ने भी इस दिल दहला देने वाली घटना की भर्त्सना की है और गुनाहगारों को फांसी की सजा देने की मांग की है।
सोशल मीडिया पर इस लोमहर्षक हत्याकांड को लेकर तीव्र गुस्सा नजर आ रहा है। वहां पूछा लिखा जा रहा है कि जो कथित धर्मनिरपेक्षवादी लोग जम्मू-कश्मीर के कठुआ के रसाना में हुई घटना को लेकर देश-दुनिया में आंदोलन खड़ा कर रहे थे, वे आज पूरी तरह खामोश हैं। उनके मुंह से अब निंदा और विरोध का एक भी शब्द नहीं निकल रहा है।
अलीगढ़ में ही नहीं देशभर के विभिन्न शहरों में लोग मासूम गुड़िया के लिए कैंडिल मार्च निकाल अपनी श्रद्धांजलि दे रहे हैं और मासूम गुड़िया के हत्यारों को फांसी दिए जाने की मांग रहे हैं। सोशल मीडिया पर 70 हजार से अधिक लोगों ने इस वीभत्स घटना पर ट्वीट कर अपनी तीखी प्रतिक्रिया दी है। सवालों के घेरे में अलीगढ़ पुलिस भी है। प्रदेश के पूर्व डीजीपी विक्रम सिंह ने कहा कि इस घटना में अलीगढ़ पुलिस से कई बड़ी भूलें हुई हैं। प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आरोपितों पर कड़ी से कड़ी से करने की बात कही है। इसके लिए एसआईटी गठित कर दी गई है। पुलिस ने फास्ट ट्रैक कोर्ट में इस मामले का जल्द से जल्द निपटारा कर दोषियों पर कार्रवाई करने की बात कही है।
कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और महासचिव प्रियंका गांधी ने शुक्रवार को ट्वीट कर लिखा-मासूम बच्ची के साथ अमानवीय घटना ने हिलाकर रख दिया है। इसके दर्द को बयां नहीं किया जा सकता है। राहुल ने कहा कि यूपी पुलिस को आरोपितों पर कड़ी कार्रवाई करनी चाहिए। इस घटना को लेकर सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने कहा कि प्रदेश में जंगल राज है।अलीगढ़ के टप्पल की घटना से बाॅलीवुड में भी बहुत आक्रोश है। अनुपम खेर, अक्षय कुमार ने ट्वीट कर इस नृशंस घटना की निंदा की है। अक्षय कुमार ने अपने ट्वीट में कहा-बच्ची के बारे में पता चलने के बाद भयभीत,परेशान और क्रोधित हूं…। अनुपम खेर ने अपने ट्वीट में लिखा है बच्ची के रेप से क्रोधित, भयभीत, लज्जित और बहुत दुखी हूं।
दस दिन पहले घर के बाहर से हुई थी गायब अलीगढ़ की
मासूम दस पहले मई यानि 30 मई को घर के बाहर से खेलते समय अचानक गायब हो गई थी। बच्ची के गायब होने के पहले घरवालों ने उसे घर के बाहर खेलते हुए आखिरी बार देखा था। 31 मई को पुलिस ने इस घटना की प्राथमिकी दर्ज की। लेकिन वह खोजबीन और कार्रवाई के बजाय चुपचाप बैठी रही।
फ्रिज में रखा था मासूम का शव
अभी तक जांच और पूछताछ में जो बातें निकलकर सामने आयीं हैं। उनसे यह पता चला है कि दरिंदों ने मासूम गुड़िया की गला घोंटकर हत्या की थी और उसके शव को तीन दिन तक फ्रिज के अंदर रखा था। इसके बाद बदबू आने पर उसने शव को अपने घर के बाहर कूड़ेदान में फेंक दिया था।
सफाई कर्मी ने देखा शव
तीन जून को सफाईकर्मी जब उधर कूड़ा डालने गई तो वहां पर कुत्ते कुछ नोंचकर खा रहे थे। वह पास पहुंची तो उसने देखा कि कुत्ते एक मासूम के शव को नोंच रहे हैं। उसने वहां से आकर इसकी आसपास के लोगों को जानकारी दी तो वहां जाने पर पता चला कि वह लापता हुई मासूम गुड़िया का शव है। तब गुड़िया के घर माता-पिता का ध्यान आरोपित जाहिद पर गया और उन्होंने इसकी सूचना पुलिस को दी। इसके बाद पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया। लेकिन पुलिस ने इस मामले को गंभीरता से नहीं लिया।
पुलिस की कार्यशैली को लेकर लोग हुए आक्रोशित
पुलिस की कार्यशैली को लेकर मोहल्ले और शहर वाले जब आक्रोशित होने लगे तथा मीडिया में मामले ने तूल पकड़ा तो पुलिस सक्रिय हुई। तब प्रदेश सरकार ने भी सख्त रुख अख्तियार किया और इसमें मामले में छह जून को लापरवाही बरतने वाले एक इंस्पेक्टर सहित पांच पुलिसकर्मियों को सस्पेंड कर दिया। साथ ही सरकार ने रासुका के तहत इस मामले को फास्ट ट्रैक कोर्ट में स्थानातंरित करवाने का फैसला किया है। दवाब और देशभर में आक्रोश के बाद पुलिस ने मुख्य आरोपी जाहिद के बाद उसके साथी असलम उनके साथ एक अन्य तथा जाहिद की पत्नी को भी गिरफ्तार कर लिया गया है। इस तरह अब तक इस मामले में चार लोग पकड़े जा चुके हैं।
पोस्टमार्टम में हुआ खुलासा
मासूम की पोस्टमार्टम रिपोर्ट में अभी तक जो बातें सामने आयी हैं,उनमें मासूम की हत्या दम घुटने से बतायी जा रही। उसके शरीर के विभिन्न हिस्सों में चोट के निशान पाए गए हैं। शरीर पर तेजाब डालने और दुष्कर्म की पुष्टि नहीं हुई है। वहां के सीएमओ का कहना है कि साक्ष्यों को फोरेंसिक लैब में जांच को भेजा गया है ताकि कई आशंकाओं और सवालों का जवाब मिल सके कि मासूम के साथ आरोपितों ने असल में क्या हरकत की थी।
एसआईटी करेगी जांच, 20 दिन में देगी रिपोर्ट
मुख्यमंत्री योगी ने इस गंभीर मामले की जांच के लिए एसआईटी का गठन किया है। एसपी देहात मणिलाल पाटीदार के नेतत्व में सीओ (खैर) पंकज श्रीवास्तव की निगरानी में चार विवेचक इस मामले की जांच करेंगे, जो 15 से 20 में अपनी रिपोर्ट दे देंगे। इसमें महिला इंस्पेक्टर समेत पांच इंस्पेक्टर शामिल हैं।हिस

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY