बाघों को बचाने अब तक 25 हजार लोगों ने लगाई अपने हाथों से छाप

भोपाल । बाघों के संरक्षण के प्रति लोगों को जागरूक करने की दृष्टि से राष्ट्रीय बाघ संरक्षण प्राधिकरण (एनटीसीए) द्वारा शुरू किए गए ‘बाघ बनाएं, बाघ बचाएं’ अभियान के दौरान अब तक प्रदेश के 25 हजार से अधिक लोग अपने हाथों से छाप लगा चुके हैं। इन छापों से बाघ की एक विशालकाय पेंटिंग तैयार होगी, जिसे अंतराष्ट्रीय बाघ दिवस के अवसर पर इंदौर एयरपोर्ट पर लगाया जाएगा।

बाघों के संरक्षण के प्रति देश और प्रदेश के लोगों में जागरूकता लाने के उद्देश्य से एनटीसीए द्वारा कई कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं। इन्हीं में से एक है ‘बाघ बनाएं, बाघ बचाएं’। इसके लिए पूरे प्रदेश के लोगों से एक कैनवास बोर्ड पर छाप लगाने का आग्रह किया जा रहा है और उनकी लगाई गई छाप से बाघ की एक विशालकाय पेंटिंग तैयार की जा रही है।

96 टुकड़ों से बनेगी 21×36 फीट आकार की पेंटिंग
एनटीसीए द्वारा 29 जुलाई को अंतराष्ट्रीय बाघ दिवस के अवसर पर प्रदेश के इंदौर एयरपोर्ट पर बाघ की जिस पेंटिंग का अनावरण किया जाएगा, वह 21×36 फीट आकार की होगी। इस पेटिंग को 3×3 फीट आकार के कैनवास बोर्ड को जोड़कर बनाया जाएगा। इस तरह के कुल 96 बोर्ड प्रदेश के विभिन्न जिलों, अभ्यारण्य, टाइगर रिजर्व एवं नेशनल पार्क के क्षेत्रों में तैयार किए जा रहे हैं। इनमें से अब तक छाप लगे हुए 80 बोर्ड वन्य प्राणी संरक्षण विभाग के भोपाल स्थित मुख्यालय पर पहुंचे चुके हैं, जिन्हें इंदौर ले जाया जाएगा।

पूरे प्रदेश में चला अभियान
‘बाघ बनाएं, बाघ बचाएं’ अभियान के लिए बाघ की विशालकाय पेंटिंग के 3×3 फीट आकार वाले हिस्से प्रदेश के प्रत्येक जिले, अभ्यारण्य, नेशनल पार्क एवं टाइगर रिजर्व में भेजे गए थे। इन कैनवास बोर्ड पर बाघ की पेंटिंग की सिर्फ आउटलाइन बनी हुई थी। अभियान से जुड़े वालंटियर्स ने इसकी पृष्ठभूमि और बाघ संरक्षण का महत्व बताते हुए समाज के सभी वर्गों के लोगों से इस पर छाप लगाने का आग्रह किया। वन्य प्राणी संरक्षण विभाग के अधिकारियों के मुताबिक एनटीसीए के इस अभियान से अब तक प्रदेश के 25 हजार से अधिक लोग जुड़ चुके हैं। इनमें छात्र-छात्राएं, गृहिणियां, खिलाड़ी, राजनेता एवं सामाजिक जीवन की प्रमुख हस्तियां शामिल हैं। एजेंसी (हि.स.)

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY