बाढ़ से अब तक 54 लोगों की मौत, शिरोल के पांच गांव जलमग्र

मुंबई । कोल्हापुर जिले में शिरोल तहसील के 5 गांव अब भी बाढ़ की चपेट में हैं। यहां के 20 हजार 541 लोगों को सुरक्षित स्थान पर पहुंचा दिया गया है। बाढ़ से अब तक 54 लोगों की मौत हुई है। सांगली में 26, कोल्हापूर जिले में 10, सातारा जिले में 8, पुणे जिलें में 9 तो सोलापूर जिले में एक व्यक्ति का समावेश है। पुणे में बाढ़ की वजह से चार लोग लापता है , इनकी तलाश जारी है। सांगली जिले में 8 राष्ट्रीय आपदा राहत टीम तैनात हैं और 20 नांव व 176 जवानों राहत व बचाव कार्य में लगे हुए हैं। इसी तरह कोल्हापुर जिले में 7 राष्ट्रीय आपदा राहत टीम तैनात हैं और 19 नांव व 147 जवान यहां राहत व बचाव कार्य में लगे हुए है। इस तरह की जानकारी पुणे विभागीय आयुक्त डॉ. दीपक म्हैसेकर ने शुक्रवार को दी है।
कोल्हापुर व सांगली जिले में बाढ़ का पानी खतरे की निशान से नीचे बह रहा है। पुणे विभाग में अब तक 33 हजार 775 बाढग़्रस्त परिवारों को 16 कोटी 88 लाख 75 हजार रुपये की आर्थिक मदद बांटी जा चुकी है। यहां 1 हजार 169 घरों की पूरी तरह तथा 18 हजार 533 घरों का आंशिक रुप से इस तरह कुल 19 हजार 702 घरोंका व 526 बस्तियां बाढ़ की वजह से बर्बाद हो गई हैं।
दीपक ह्मैसेकर ने बताया कि बाढ़ की वजह से सांगली जिले की 4 तहसीलों के 104 गाव प्रभावित है । यहां के 64 हजार 646 परिवारों के 3 लाख 5 हजार 957 लोगों को स्थलांररित किया गया है । इन सभी 64 अस्थाई छावनी में रखा गया है। इसी तरह कोल्हापूर जिले की 12 तहसीलों के 369 गांव प्रभावित हैं । यहां के लाख 7 हजार 134 लोगों को स्थलांतरित कर 181 अस्थाई छावनी में रखा गया है। बाढ़ की चपेट में आए सभी गांवों में बिजली व अन्य सुविधा उपलब्ध करवा दी गई है। यहां साफ सफाई तथा धुम्रफवारनी की काम , जल शुद्धिकरण का काम जारी है। दीपक ह्मैसेकर के अनुसार सांगली जिले के लिए 44 ट्रक व कोल्हापुर जिले के लिए 42 ट्रक इस तरह कुल 86 ट्रक राहत सामग्री भेजी गई है। एजेंसी/हिस

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY