भारी बारिश के बाद गांधीसागर बांध के पांच बड़े और सात छोटे गेट खोले गए

मालवा-निमाड़ । प्रदेश के मालवा निमाड़ में हो रही झमाझम बारिश के चलते नदी-नालों में बाढ़ आ गई है। बुधवार सुबह नौ बजे मंदसौर में गांधीसागर बांध के पांच बड़े और सात छोटे गेट खोल दिए गए। रातभर हुई बारिश के बाद बुधवार सुबह आठ बजे बांध का जलस्तर 1310.91 फीट दर्ज किया गया, जिसके बाद प्रशासन ने गेट खोलने का निर्णय लिया। इससे लगभग दो लाख क्यूसेक पानी छोड़ा जा रहा है। इससे पहले रात से ही गांधी सागर के चार छोटे और तीन बड़े गेट खुले हुए हैं।

मंगलवार रात में हुई बरसात के चलते शिवना नदी एक बार फिर उफान पर आ गई है। बुधवार सुबह छोटी पुलिया के करीब चार फीट ऊपर से पानी बह रहा था। शिवना नदी इस साल मानसून में तीसरी बार पशुपतिनाथ महादेव के गर्भगृह में पहुंची। पशुपतिनाथ मंदिर से चंद्रपुरा व खिलचीपुरा जाने वाले रास्ते पर भी शिवना का पानी भरा रहा। वहीं बड़वानी के निकट राजघाट में नर्मदा का जलस्तर पिछले 49 साल के रिकार्ड को तोड़कर 133.800 मीटर पर पहुंच गया है। इससे पहले ऐसी स्थिति 1970 में हुई थी, तब नर्मदा का जलस्तर अधिकतम 136.600 मीटर तक पहुंच गया था। रतलाम में चौबीस घंटों में सवा पांच इंच बारिश से रेलवे ट्रैक पर पानी जमा हुआ है। यहां भी धोलावड़ बांध के चार गेट खोले गए है। उज्जैन में 24 घंटे में 2 इंच बारिश हुई है। शिप्रा नदी उफान पर होने से रामघाट स्थित मंदिर आधे डूब गए है। एजेंसी

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY