लाल किले की प्राचीर से प्रधानमंत्री ने किया ‘छोटे परिवार’ के जरिए राष्ट्रसेवा का आह्वान

नई दिल्ली । प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने देश के 73वें स्वतंत्रता दिवस पर लाल किले की प्राचीर से देशवासियों को संबोधित करते हुए कहा कि आज अपना देश ‘एक भारत और श्रेष्ठ भारत’ की दिशा में बढ़ रहा है और इसमें हर नागरिक की सहभागिता है। उन्होंने देशवासियों को स्वतंत्रता दिवस और रक्षाबंधन की बधाई देते हुए सभी से राष्ट्र हित में काम करने, आतंकवाद और अलगाववाद से एकजुट होकर लड़ने और जनसंख्या विस्फोट को रोकने के लिए ‘छोटा परिवार’ के जरिए देश सेवा करने का आह्वान किया।

जो 70 साल में न हुआ 70 दिन में कर दिखाया

प्रधानमंत्री ने लालकिले की प्राचीर पर झंडारोहण करने के बाद देशवासियों को संबोधित करते हुए कहा कि देशवासियों ने उन पर भरोसा जता कर अहम जिम्मेदारी दी है। इसीलिए सत्ता में आने के बाद केन्द्र सरकार लगातार देशहित में फैसले ले रही है। जनता के भरोसे और उम्मीदों का ही परिणाम है कि सरकार ने कश्मीर में शांति बहाली और विकास के लिए अनुच्छेद 370 समाप्त किया। इसका नतीजा यह है कि आज देश का हर नागरिक एक देश, एक संविधान के मॉडल पर गर्व कर सकता है। उन्होंने कहा कि जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 को हटाने के साथ ही ‘एक देश एक संविधान’ का सिद्धांत लागू हो गया है। उन्होने कहा कि जो काम 70 साल में नही हो सका, उसको उनकी सरकार ने दूसरे कार्यकाल के 70 दिन में ही पूरा कर दिखाया। केन्द्र सरकार के महत्वपूर्ण फैसलों पर मोदी ने कहा कि देशवासियों ने उन पर भरोसा जता कर अहम जिम्मेदारी दी है। इसीलिए सत्ता में आने के बाद केन्द्र सरकार लगातार देशहित में फैसले ले रही है।

उन्होंने कहा कि 2014 से 2019 तक देश की जनता ने उन्हें देशसेवा का मौका दिया। इस दौरान उन्होंने आम आदमी के जीवन में आने वाली कठिनाइयों को दूर करने तथा सबका साथ सबका विकास के मंत्र को लेकर कई कड़े फैसले लिये, जिसका नतीजा सामने आ रहा है। मुस्लिम महिलाओं के हितों की रक्षा के लिए तीन तलाक पर कानून लाकर इस कुरीति का खात्मा किया। किसानों के हित में भी केंद्र सरकार ने किसान सम्मान योजना जैसा अहम कदम उठाया है।

उन्होंने कहा कि आज देश का हर नागरिक ‘एक देश, एक संविधान’ के मॉडल पर गर्व कर सकता है। उन्होंने कहा कि ‘एक देश एक टैक्स’ के बाद ऊर्जा के क्षेत्र में ‘एक देश, एक ग्रिड’ को आगे बढ़ाया गया है। ऐसे में अगला कदम देश में एक साथ चुनाव कराने का होना चाहिए, जिसे लेकर लोगों में भी चर्चा होनी चाहिए।

सेना में सीडीएस की नियुक्ति का ऐलान

लाल किले से छठवीं बार देशवासियों को संबोधित करते हुए मोदी ने सेना के तीनों अंगों में तालमेल बनाने के लिए चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (सीडीएस) का नया पद सृजित करने का ऐलान किया। इसके साथ ही उन्होंने बुनियादी ढांचे के विकास के लिए सौ करोड़ रुपये के निवेश का भी ऐलान किया। प्रधानमंत्री ने कहा कि समाज में मुस्लिम महिलाओं के वैवाहिक अधिकारों के संरक्षण के लिए तीन तलाक की कुप्रथा को दूर करने के लिए कानून लागू करने का काम सरकार ने किया है । इसके साथ ही जनता के विचारों में भी बदलाव आया है। पहले लोग सोचते थे कि देश नही बदल सकता, आज कह रहे हैं कि देश बदल सकता है और बदल रहा है।

स्वतंत्रता सेनानियों को किया याद

प्रधानमंत्री ने आजादी की लड़ाई में अपनी जान गंवाने वाले स्वतंत्रता सेनानियों को भी सलाम किया। उन्होंने कहा कि देश की आजादी के अपना सर्वस्व लुटाने वाले राजनेता, सेना के जवान और आम आदमी प्रति हम हमेशा ऋणी रहेंगे।

सबको शुद्ध पेयजल के लिए जल-जीवन मिशन पर जोर

प्रधानमंत्री ने कहा कि आज भी देश में में करीब-करीब आधे घर ऐसे हैं, जिन घरों में पीने का शुद्ध पानी उपलब्ध नहीं है। उनको पीने का पानी प्राप्त करने के लिए मशक्कत करनी पड़ती है। माताओं-बहनों को सिर पर बोझ उठा करके, मटके लेकर दो-दो, तीन-तीन, पांच-पांच किलोमीटर जाना पड़ता है। उन्होंने कहा कि सरकार जल-जीवन मिशन को लेकर आगे बढ़ रही है। उन्होंने कहा कि सबको स्वच्छ जल मिल सके इसके लिए केंद्र और राज्य सरकारें साथ मिलकर काम करेंगी। आने वाले वर्षों में साढ़े तीन लाख करोड़ रुपये से भी ज्यादा रकम इस जल-जीवन मिशन के लिए खर्च करने का संकल्प लिया है। उन्होंने कहा कि इस विश्वास के साथ आगे बढ़ें कि पानी के क्षेत्र में पिछले 70 साल में जो काम हुआ है, हमें 5 साल में चार गुना से भी ज्यादा उस काम को करना होगा।

जनसंख्या नियंत्रण के लिए जागरुकता की जरूरत

प्रधानमंत्री ने कहा कि अब हमारा देश उस दौर में पहुंचा है, जिसमें बहुत-सी बातों से अब हमें अपने आपको छुपाए रखने की जरूरत नहीं है। चुनौतियों को सामने से स्वीकार करने का वक्त आ चुका है। कभी राजनीतिक नफा-नुकसान के इरादे से हम निर्णय करते हैं लेकिन इससे देश की भावी पीढ़ी का बहुत नुकसान होता है। उन्होंने कहा कि हमारा देश जनसंख्या विस्फोट की ओर बढ़ रहा है। जनसंख्या का बढ़ना विस्फोटक इसलिए है, क्योंकि यह हमारी आने वाली पीढ़ी के लिए अनेक नए संकट पैदा करता है । हमारे देश में आज भी स्वः प्रेरणा से एक छोटा वर्ग परिवार को सीमित करके, अपने परिवार का भी भला करता है और देश का भला करने में बहुत बड़ा योगदान देता है। ये सभी सम्मान के अधिकारी हैं, ये आदर के अधिकारी हैं। छोटा परिवार रखकर भी वह देश भक्ति को ही प्रकट करते हैं। उन्होंने कहा कि ऐसे परिवारों से सीखने की जरूरत है कि हमारे घर में किसी भी शिशु के आने से पहले हम यह सोचें कि जो शिशु हमारे घर में आएगा, क्या हम उसकी आवश्यतकताओं की पूर्ति के लिए तैयार और सक्षम हैं। उन्होंने कहा कि जनसंख्या नियंत्रण के लिए सामाजिक जागरूकता की आवश्यकता है। एजेंसी/हिस

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY