असम जाएगा गोजमुमो प्रतिनिधिमंडल

कोलकाता । पश्चिम बंगाल के दार्जिलिंग की पहाड़ियों पर रहने वाली जनजाति गोरखा समुदाय के प्रतिनिधि के तौर पर माने जाने वाली पार्टी गोरखा जनमुक्ति मोर्चा (गोजमुमो) का एक प्रतिनिधिमंडल जल्द ही असम का दौरा करेगा, जहां गत शनिवार को एनआरसी की अंतिम सूची जारी की गई है।

गोजमुमो का कहना है कि एनआरसी के जरिए गोरखा समुदाय के करीब एक लाख लोगों की नागरिकता खत्म कर दी गई है। खुद मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भी यही दावा किया है। पार्टी अध्यक्ष विनय तमांग ने कहा कि जल्द ही एक प्रतिनिधिमंडल असम का दौरा करेगा जो वहां रहने वाले गोरखा समुदाय के लोगों से मुलाकात कर हालात को समझेगा।

दरअसल 2017 के पहले गोजमुमो का भाजपा से गठबंधन था लेकिन पृथक गोरखालैंड की मांग पर जून 2017 में व्यापक आंदोलन की शुरुआत हुई। 104 दिनों तक पहाड़ियों को बंद रखा गया और जमकर हिंसा हुई। इस दौरान गोरखा जनमुक्ति मोर्चा के तत्कालीन अध्यक्ष विमल गुरुंग और महासचिव रोशन गिरि के खिलाफ राज्य सरकार ने देशद्रोह की धाराओं के तहत मामला दर्ज किया था। गिरफ्तारी से बचने के लिए उन्हें अंडर ग्राउंड होना पड़ा था। उसके बाद राज्य सरकार की रणनीति के तहत मोर्चा अध्यक्ष पद से विमल गुरुंग को हटाकर विनय तमांग को जिम्मेदारी दे दी गई थी। वह ममता बनर्जी के करीबी थे। उसके बाद से यह पार्टी मुख्यमंत्री बनर्जी के साथ मिलकर काम कर रही है। एजेंसी

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY